राज्यसभा चुनाव: BJP के दो उम्मीदवारों ने वापस लिया नाम, फिर भी बसपा की राह मुश्किल

लखनऊ: समाजवादी पार्टी और बहुजन समान पार्टी के गठजोड़ के बाद बीजेपी थोड़ा बैकफुट पर नजर आ रही है. राज्यसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश से बीजेपी के दो प्रत्याशियों ने गुरुवार को नाम वापस ले लिया. इस तरह अब सूबे में संसद के उच्च सदन की 10 सीटों के चुनाव के लिए कुल 11 उम्मीदवार मैदान में रह गए हैं. हालांकि मुकाबला अभी भी रोचक बना हुआ है और बसपा उम्मीदवार की जीत का गणित बिगड़ सकता है.

चुनाव अधिकारी पूनम सक्सेना ने बताया कि राज्यसभा चुनाव के लिए नाम वापसी के अंतिम दिन बीजेपी प्रत्याशियों विद्यासागर सोनकर और सलिल विश्नोई ने नाम वापस ले लिया. इस तरह अब 10 सीटों के लिये 11 प्रत्याशी मैदान में रह गए हैं. उन्होंने बताया कि मतदान आगामी 23 मार्च को होगा. उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए अब बीजेपी के नौ तथा सपा और बसपा के एक-एक उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं.

बीजेपी उम्मीदवारों में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ-साथ अशोक बाजपेयी, विजय पाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, कांता कर्दम, अनिल जैन, हरनाथ सिंह यादव, जीवीएल नरसिम्हा राव और अनिल अग्रवाल शामिल हैं. वहीं, सपा ने जया बच्चन तथा बसपा ने भीमराव अम्बेडकर को प्रत्याशी बनाया है.

राज्यसभा चुनाव में किसी एक उम्मीदवार को जिताने के लिए 37 प्रथम वरीयता वाले मतों की जरूरत होगी. प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी और उसके सहयोगियों के पास 324 विधायक हैं. उस लिहाज से बीजेपी अपने आठ उम्मीदवारों को आसानी से राज्यसभा पहुंचा सकती है. इसके बावजूद उसके पास 28 वोट बच जाएंगे.

सपा के पास 47 विधायक हैं और वह एक उम्मीदवार को आसानी से चुनाव जिता सकती है. इसके बावजूद उसके पास 10 वोट बचे रह जाएंगे. बसपा के पास 19 सदस्य है, लिहाजा उसे अपना उम्मीदवार जिताने के लिए सपा के 10, कांग्रेस के 7 और राष्ट्रीय लोकदल के एक उम्मीदवार का समर्थन चाहिए.

हालांकि जल्द ही अपना कार्यकाल पूरा कर रहे सपा के राज्यसभा सदस्य नरेश अग्रवाल के बीजेपी में चले जाने के बाद उनके बेटे और हरदोई से सपा विधायक नितिन अग्रवाल के बीजेपी के पक्ष में वोट डालने की प्रबल संभावना है. ऐसे में बसपा उम्मीदवार को जिताने की गणित बिगड़ सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help