चीन: मोदी ने शी चिनफिंग को राष्ट्रपति पद के दूसरे कार्यकाल की बधाई दी

बीजिंग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग को दूसरी बार राष्ट्रपति बनने की बधाई देते हुए कहा है कि वह चीन- भारत संबंधों को विस्तार देने के लिए उनके साथ काम करने को उत्सुक हैं. पिछले सप्ताह चीनी संसद नेशनल पीपल्स कांग्रेस ने64 वर्षीय शी को आजीवन राष्ट्रपति बनाये रखने का रास्ता साफ करते हुए एक कानूनी संशोधन पारित किया था.

मोदी ने चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीबो के अपने अकाउंट पर पोस्ट किए गए संदेश में कहा, “ प्रिय राष्ट्रपति शी चिनफिंग आपको दोबारा चीन का राष्ट्रपति बनने के लिए बधाई. ” मोदी ने आगे कहा, “ हमारे द्विपक्षीय संबंधों को आगे ले जाने के लिए मैं आपके साथ काम करने के लिए उत्साहित हूं . ” प्रधानमंत्री मोदी ने वीबो पर अपना अकाउंट साल2015 में चीन के अपने दौरे के समय बनाया था. इस साइट पर उनके 1,83,379 फॉलोअर्स हैं.

यह भी पढ़ें- चीन: शी जिनपिंग फिर से बने राष्ट्रपति, वांग किशान ने संभाला उपराष्ट्रपति का पद

शी जिनपिंग फिर से बने राष्ट्रपति
बता दें कि शी जिनपिंग को (17 मार्च) फिर से अगले पांच और साल के लिए चीन का राष्ट्रपति चुन लिया गया है. रबर स्टांप मानी जाने वाली चीन की संसद नेशनल पीपुल्स कांग्रेस ने कुछ ही दिन पहले राष्ट्रपति के कार्यकाल पर लगी समयसीमा खत्म करते हुए उन्हें आजीवन राष्ट्रपति बनने की मंजूरी दे दी थी. शी को चीन की ताकतवर सेंट्रल मिलिट्री कमिशन का भी प्रमुख चुना गया, जिसके अंदर चीनी सेना आती है. 11 मार्च को नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) के 2900 से अधिक सांसदों ने राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के दो कार्यकाल की समयसीमा खत्म करने के मकसद से सत्तारूढ़ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) की ओर से प्रस्तावित संवैधानिक संशोधन के लिए मतदान किया था.

इससे पहले साल 2013 में बने थे राष्ट्रपति
दो बार के कार्यकाल पर समयसीमा लगने के कारण शी को वर्ष 2023 तक सीपीसी प्रमुख, सेना और राष्ट्रपति के तौर पर सेवानिवृत्त होना था. शी वर्ष 2013 में राष्ट्रपति बने थे. माओ के निधन के बाद पार्टी ने दो बार के कार्यकाल पर समयसीमा लगाने को स्वीकृति दी थी, ताकि यह सुनिश्चित हो कि भीषण सांस्कृतिक क्रांति जैसी गलतियों को टालने के लिये एक समग्र नेतृत्व सुनिश्चित किया जा सके. इस क्रांति में लाखों लोग मारे गये थे. सांसदों ने सर्वसम्मति से शी को राष्ट्रपति चुना, वहीं वांग किशान को एक के मुकाबले 2969 मतों से उपराष्ट्रपति चुना गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help