UP पुलिस का अपराधियों को संदेश, ‘कुछ तो कारण होगा कि विलेन अंत में मारा जाता है’

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त निर्देशों के बाद यूपी में बदमाशों की शामत आई हुई है. यूपी पुलिस पिछले कई महीनों से लगातार मुठभेड़ों में बदमाशों को अपनी गोलियों का शिकार बना रही है. खाकी वर्दी के खौफ का असर बदमाशों पर भी देखने को मिल रहा है. प्रदेश में अब बदमाश खुद ही पुलिस के सामने सरेंडर कर रहे हैं.

फिल्मी स्टाइल में एक संदेश
अपराधियों को हौसले पस्त देख, पुलिस के हौसले बढ़े हुए हैं. एक अप्रैल यानी अप्रैल फूल वाले दिन पुलिस ने अपराधियों को फिल्मी स्टाइल में एक संदेश दिया है. इसमें साफ लिखा है, ‘कुछ तो कारण होगा कि विलेन अंत में मारा जाता है.’ इस संदेश को पुलिस ने ट्वीट किया है.

फिल्मी विलेन का सहारा
पुलिस ने क्रमिनल को अपना मैसेज देने के लिए एक पोस्टर बनाया है और इसमें फिल्मी विलेन, उनकी फिल्मों के नाम और उनके डायलॉग को शामिल किया है. इन डायलॉग में ‘अंधा कानून’, ‘ज़िंदगी हो तो स्मग्लर जैसी, सारी दुनिया राख की तरह नीचे और हम धुएं की तरह ऊपर’, ‘चौकियां चाहे पुलिस की हों, शहर के कमिश्नर तो हम ही लोग हैं’ और ‘कानून मेरी मुट्ठी में’ लिखा हुआ है. इन डायलॉग्स पर हिंदी फिल्मों के मशहूर विलेन जैसे प्रेम चौपड़ा, अमरिश पुरी, शक्ति कपूर, सदाशिव अमरापुरकर और इमरान हाशमी के चित्र लगे हुए हैं.

खास बात यह है कि इस पोस्टर के ऊपर पुलिस का अपराधियों को मैसेज भी मोटे अक्षरों में लिखा हुआ है, ‘ऐसी डींग मारने वाले हर अपराधी को आज का दिन मुबारक.’ उसके नीचे लिखा है, ‘कुछ तो कारण होगा कि विलेन अंत में मारा जाता है’. समाज के खलनायकों को पुलिस का यह फिल्मी संदेश खूब पसंद किया जा रहा है. सोशल मीडिया पर यह पोस्टर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है.

क्राइम से डर लगाता है साहेब
इससे पहले 16 फरवरी को भी यूपी पुलिस ने अपने एक ट्वीट में कुछ ऐसे मैसेज वाला एक पोस्टर शेयर किया था और उस ट्वीट में लिखा था, ‘पुलिस से नहीं, क्राइम से डर लगाता है साहेब.’ इस ट्वीट में पुलिस ने एनकाउंटर में मारे गए बदमाशों की खबरों वाली अखवारों की कटिंग का एक पोस्टर बनाया था.

डीजीपी ओपी शर्मा
पिछले साल सत्ता में आते ही योगी सरकार ने प्रदेश को अपराध मुक्त करने का नारा दिया था. इस साल जनवरी में वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ओपी सिंह को यूपी के डीजीपी की जिम्मेदारी सौंपी थी. ओपी सिंह ने अपना पद संभालते ही बदमाशों के सफाए की मुहीम शुरू कर दी थी. नए डीजीपी यूपी के हर जिले का दौरा कर वहां के पुलिस अधिकारियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं और जिले में होने वाले अपराधों पर चर्चा करते हैं.

गले में तख्ती लटकाए माफी मांग रहे हैं अपराधी
लगातार हो रहे एनकाउंटर से दहशत में आए अपराधी अब खुद सड़क पर निकल कर माफी मांग रहे हैं. शामली के कैराना कोतवाली इलाके के दो वॉन्टेड क्रिमिनल सार्वजनिक तौर पर ऐसा करते नजर आए. सलीम अली और इरशाद अहमद नाम के दो अपराधी कई लूट और हत्या के मामलों में आरोपी हैं. उन्हें हाल ही में जमानत पर जेल से छोड़ा गया था. जेल से छूटने के बाद दोनों अपने गले में तख्ती लटकाए घूमते दिखे. इन तख्तियों पर दोनों अपराधियों के नाम लिखे थे. साथ ही में लिखा था ‘मैं भविष्य में कोई अपराध नहीं करूंगा. मैं मेहनत-मजदूरी कर अपना और अपने परिवार का पालन-पोषण करूंगा.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help