खिसियाए आफरीदी बोले- मैं अपने देश का सैनिक हूं, बुलाने पर भी नहीं जाऊंगा IPL खेलने

शाहिद आफरीदी ने जब से कश्मीर को लेकर ट्वीट किया है, तब से भारत की ओर से तमाम क्रिकेटरों ने उनकी जमकर खबर ली है.

नई दिल्ली : ‘खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे’ वाली कहावत तो सभी ने सुनी होगी. ये कहावत इस समय पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद आफरीदी पर बिल्कुल फिट बैठ रही है. कश्मीर पर विवादित ट्वीट कर अपनी छीछालेदर कराने वाले आफरीदी ने अब एक और अजीबोगरीब बयान दे दिया है. उनका कहना है कि उनकी आईपीएल में खेलने की कोई इच्छा नहीं है. अगर बुलावा भी आए तो वह आईपीएल में खेलने नहीं जाएंगे. हालांकि वह ये भूल गए कि 2008 में वह हैदराबाद डेक्कन चार्जर्स की ओर से खेल चुके हैं.

दरअसल शाहिद आफरीदी ने जब से कश्मीर को लेकर ट्वीट किया है, तब से भारत की ओर से तमाम क्रिकेटरों ने उनकी जमकर खबर ली है. अब उन्होंने पाकिस्तानी वेबसाइट पाक पेशन से कहा, मैं अपने देश का सिपाही हूं. मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मेरे बारे में लोग क्या कह रहे हैं. मेरे लिए पाकिस्तान ही सब कुछ है. यदि मैं एक क्रिकेटर नहीं होता तो मैं आर्मी में सिपाही होता.

पीएसएल को आईपीएल से बड़ा बनाने का दावा
शाहिद आफरीदी ने इस बातचीत में आईपीएल पर कहा कि उनकी आईपीएल में खेलने की कोई इच्छा नहीं है. मैं आईपीएल में नहीं खेलना चाहूंगा. मेरा पीएसएल सबसे बड़ा है. जल्द ही वह आईपीएल को पीछे छोड़ देगा. मुझे पीएसएल में खेलने में मजा आ रहा है. मुझे किसी आईपीएल की जरूरत नहीं है. मुझे इसमें कभी इंटरेस्ट नहीं था.

ये और बात है कि जब आईपीएल में पाकिस्तानी खिलाड़ियेां के खेलने पर रोक लगी थी, तो वहीं के लोग सबसे ज्यादा उखड़े थे और मांग की गई थी कि क्रिकेटरों को आईपीएल में खेलने देना चाहिए.

पीसीबी लगातार गिड़गिड़ा रहा है बीसीसीआई के सामने
आफरीदी भले कुछ भी कहते रहें, लेकिन हकीकत कुछ और है. भारत के पाकिस्तान के साथ न खेलने से पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड करीब करीब कंगाल होने की स्थिति में है. जब से भारत ने द्वपक्षीय सीरीज खेलने से मना किया है. तब से उसे करोड़ों का नुकसान हो चुका है. वह लगातार बीसीसीआई से मैच खेलने की गुहार लगा रहा है.

यहां से शुरू हुआ था विवाद
सबसे पहले शाहिद अफरीदी ने अपने ट्वीट में कहा था, “कश्मीर में हालत चिंताजनक हैं. आत्मनिर्णय और आजादी की आवाज को दबाने के लिए निर्दोषों को मारा जा रहा है. आश्चर्य है कि इसको रोकने के लिए यूएन और अन्य संगठन कोई कदम नहीं उठा रहे हैं.”

Shahid Afridi

@SAfridiOfficial
Appalling and worrisome situation ongoing in the Indian Occupied Kashmir.Innocents being shot down by oppressive regime to clamp voice of self determination & independence. Wonder where is the @UN & other int bodies & why aren’t they making efforts to stop this bloodshed?

इसके बाद गौतम गंभीर ने उन्हें उन्हीं के अंदाज में जवाब दिया था. गंभीर ने अपने ट्वीट में कहा, ‘मीडिया मुझसे शाहिद अफरीदी के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देने के लिए कह रही है. क्या कहूं? अफरीदी केवल UN की तरफ देख रहे हैं. उनके शब्दों में यूएन का मतलब ‘अंडर नाइनटीन’ है, जो उनकी एज ब्रैकेट है। मीडिया अफरीदी को गंभीरता से ना ले, वह नो बॉल पर विकेट लेने का जश्न मना रहे हैं.’

Media called me for reaction on @SAfridiOfficial tweet on OUR Kashmir & @UN. What’s there to say? Afridi is only looking for @UN which in his retarded dictionary means “UNDER NINTEEN” his age bracket. Media can relax, @SAfridiOfficial is celebrating a dismissal off a no- ball!!!

Shikhar Dhawan

@SDhawan25
Pehle khudke desh ki haalat sudharo. Apni soch apne paas rakho. Apne desh ka joh hum kar rahe hai woh acha hi hai aur aage jo karna hai woh humein ache se pata hai. Zyaada dimaag mat lagao @SAfridiOfficial

गौतम गंभीर के अलावा सचिन तेंदुलकर, कपिल देव, विराट कोहली, सुरेश रैना और शिखर धवन जैसे क्रिकेटरों ने भी शाहिद आफरीदी की जमकर खबर ली थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help