उन्नाव रेप केस में कांग्रेस ने सीएम योगी को ठहराया जिम्मेदार, कहा- यूपी में चल रहा रावण राज्य

नई दिल्ली: उन्नाव रेप केस मामले को लेकर कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है. पार्टी ने इस मामले के लिए योगी आदित्यनाथ को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्हें तत्काल बर्खास्त किए जाने की मांग की. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक बयान में इलाहाबाद उच्च न्यायालय की टिप्पणी का हवाला दिया और आदित्यनाथ पर निशाना साधा.

उन्होंने कहा, ‘‘उन्नाव में जिस युवती के साथ जून, 2017 में कथित तौर पर बलात्कार किया गया, जिसने मुख्यमंत्री योगी की चौखट पर गुहार लगाई और यहां तक कि आत्मदाह का प्रयास किया उसके असली दोषी कोई और नहीं बल्कि मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट उर्फ आदित्यनाथ हैं.’’ अदालत की टिप्पणी का हवाला देते हुए सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी सरकार के दौरान उत्तर प्रदेश महिलाओं, दलितों और किसानों के लिए ‘रावण राज्य’ बन गया है.

उन्नाव गैंगरेप पर योगी ने तोड़ी चुप्पी कहा, अपराधियों को नहीं बख्शा जाएगा
पीड़िता के ये हैं आरोप
“पिछले साल 4 जून की बात है. सेंगर ने 4 जून, 2017 को नौकरी देने का वादाकर अपने घर बुलाया था. जब मैं विधायक के पहुंची तो मुझे एक कमरे में ले जाकर मेरा रेप किया. मुझे धमकी देते बोले कि अगर मैंने मुंह खोला तो मेरे पिता की हत्या कर दी जाएगी. बाद में उन्हीं के लोगों ने मुझे अगवा कर लिया और कई दिनों तक मेरे साथ गैंगरेप किया. बड़ी मुश्किल से मैं 11 जून को उनके चंगुल से निकल पाई.”

सीएम योगी ने नहीं की मदद
पीड़िता ने बताया कि, “17 अगस्त, 2017, को मैं और मेरे चाचा लखनऊ गए और मुख्यमंत्री योगी के आवास पर एक आवेदन दिया. उन्होंने कार्रवाई का भरोसा दिलाया लेकिन कुछ नहीं हुआ. जब सीएम योगी से मिलने के बाद भी कुछ नहीं हुआ तो मैंने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, यूपी डीजीपी को आवेदन दिए. लेकिन फिर भी कुछ नहीं हुआ. मुझसे पुलिसवालों ने विधायक का नाम नहीं लेने को कहा.”

सीएम निवास पर सुसाइड की कोशिश
न्याय नहीं मिलने पर पीड़िता अपने परिवार के साथ फिर से आठ अप्रैल को सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास पहुंची थी. यहां उसने आत्मदाह की कोशिश भी की थी. हालांति, मौके पर मौजूद पुलिस ने ऐसा होने से रोक दिया. वहीं पीड़िता के पिता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था. नौ अप्रैल को उनकी मौत हो गई. मेडिकल रिपोर्ट में सामने आया कि आंतें फट जाने के कारण पीड़िता के पिता की मौत हुई थी. जब उन्हें पुलिस अस्पताल लेकर पहुंची थी तब पीड़िता के पिता की आंतों में गहरी चोट सामने आई थी साथ ही शरीर पर भी मारपीट के निशान थे.

मामला बढ़ने पर एसआईटी के बाद केस को सीबीआई को सौंप दिया गया. जिन्होंने बीजेपी एमएलए कुलदीप सिंह सेंगर को 13 अप्रैल को हिरासत में ले लिया था. सीबीआई कोर्ट में पेश करने के बाद सेंगर को सात दिन की रिमांड पर भेज दिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help