यूपी बोर्ड की 12वीं परीक्षा के नतीजे घोषित, 72.43 फीसदी छात्र हुए पास, रजनीश शुक्ला ने 93.20% लाकर किया टॉ

लखनऊ: यूपी बोर्ड की 12वीं परीक्षा का रिजल्ट जारी हो चुका है. 12वीं परीक्षा में 72.43 फीसदी छात्र पास हुए हैं.12वीं में रजनीश शुक्ला ने 93.20 फीसदी लाकर किया टॉप. 10वीं की परीक्षा में 75.16 फीसदी छात्र पास किए हैं. 10वीं की परीक्षा में इलाहाबाद की अंजलि वर्मा ने किया टॉप. अंजलि वर्मा ने 96.13 फीसदी स्कोर किया है. छात्र अपना रिजल्ट यूपी बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट upresults.nic.in पर चेक कर सकते हैं. इस साल टॉपरों की आंसर शीट ऑनलाइन सार्वजनिक की जाएंगी. बोर्ड के मुताबिक इससे दूसरे छात्रों को प्रेरणा मिलेगी. करीब एक घंटे बाद 10वीं का भी रिजल्ट जारी किया जाएगा. पहली बार यूपी बोर्ड ने एक ही दिन 12वीं और 10वीं के नतीजे घोषित करने का फैसला किया है. इस साल करीब एक महीने पहले रिजल्ट घोषित किया गया है. पिछली बार जून के तीसरे हफ्ते में 12वीं का रिजल्ट जारी किया गया था. इस साल 12वीं और 10वीं बोर्ड की परीक्षा में करीब 66 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन किया था.

ऐसे चेक करें रिजल्ट….
1. रिजल्ट देखने के लिए upresults.nic.in या upmspresults.up.nic.in पर जाएं.
2. वेबसाइट पर आपको UP Board Result 2018 Class 10 Result 2018 और UP Board Result 2018 Class 12 Result 2018 ऑप्शन नजर आएंगे. इन पर क्लिक करें.
3. इस पर क्लिक कर अपना रोल नंबर डालें
4. सब्मिट के ऑप्शन पर क्लिक करें, जिसके बाद आप का रिजल्ट ओपन हो जाएगा.
5. ऑनलाइन दिखने वाली मार्कशीट को आप डाउनलोड ऑप्शन को सिलेक्ट कर अपने पास सेव कर सकते हैं.

SMS के जरिए भी जान सकते हैं रिजल्ट
परीक्षा के नतीजे छात्र मैसेज के जरिए भी जान सकते हैं. इसके लिए एसएमएस ऑप्शन पर जाकर UP10ROLLNUMBER टाइप करें और उसे 56263 पर भेजें. इसी तरह 12वीं का रिजल्ट जानने के लिए UP12ROLLNUMBER टाइप कर उसे 56263 नंबर पर भेज दें.

इस साल नकल रोकने के लिए बोर्ड की तरफ से कड़े बंदोबस्त किए गए थे. इसलिए, सबकी निगाहें रिजल्ट के प्रतिशत पर टिकी हैं. रिजल्ट को लेकर छात्र पहले से दबाव में हैं. इसलिए जी न्यूज सभी पैरेंट्स से अपील करता है कि आपके बच्चों का जो भी रिजल्ट आया हो, लेकिन आप हर हाल में उन्हें सपोर्ट करेंगे. इस वक्त उन्हें सबसे ज्यादा आपके सपोर्ट और प्यार की जरूरत है.

रिजल्ट तो जारी हो चुका है. इसलिए, पैरेंट्स अपने बच्चों को अपने पास बुलाएं और उनका उत्साहवर्धन करें. कम से कम किसी दूसरे छात्र से उनकी तुलना बिल्कुल भी ना करें. कई बार देखा जाता है कि पैरेंट्स दूसरे बच्चों का उदाहरण देकर उनकी परफारमेंस की तुलना करते हैं. ऐसा करने से आपके बच्चे में हीन भावना आ सकती है और परेशान होकर कोई गलत कदम भी उठा सकता है. इसलिए, इन बातों का जरूर ध्यान रखें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help