दिल्‍ली-NCR में तेज आंधी के साथ बारिश का अलर्ट, कई राज्‍यों में तूफान आने की संभावना

publiclive.co.in[Edited by रंजीत ]

नई दिल्‍ली : हाल में देश के कई राज्‍यों में आए तेज आंधी-तूफान के बाद अब ऐहतियातन मौसम विभाग और गृह मंत्रालय काफी सतर्क है. मौसम विभाग ने रविवार सुबह जानकारी देते हुए दिल्‍ली-एनसीआर में बारिश के साथ तेज आंधी का अलर्ट जारी किया. साथ ही कहा गया है कि आधे भारत पर तीन दिन तक तूफान का खतरा बना हुआ है. इसके साथ ही यूपी, बिहार, ओडिशा और पश्चिम बंगाल में तेज आंधी की आशंका जताई गई है.

मौसम विभाग ने रविवार सुबह कहा कि दिल्‍ली, मेरठ, हापुड़, मुजफ्फरनगर और बिजनौर में अगले दो घंटों में तेज आंधी के साथ बारिश पड़ने की संभावना है. विभाग ने बताया कि पंजाब में कई जगहों पर अगले 48 से 72 घंटे में बारिश हो सकती है. अगले एक-दो दिन में इस दौरान अलग-अलग स्थानों पर तेज आंधी/तूफान आने की संभावना है.

मौसम विभाग ने कहा कि दिल्‍ली और उसके आसपास के क्षेत्र फरीदाबाद, खुर्जा, ग्रेटर नोएडा और बुलंदशहर में आंधी के साथ बारिश का पूर्वानुमान है.

उल्‍लेखनीय है कि पिछले सप्ताह धूल भरी आंधी आने के कारण पांच राज्यों में 124 लोगों की मौत हो गई थी और 300 से अधिक लोग घायल हो गए थे. इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तर प्रदेश और राजस्थान में बुधवार को आंधी-तूफान में मारे गए लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की थी. पीएमओ ने यहां एक बयान में कहा कि यह आर्थिक मदद प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से उपलब्ध कराई जाएगी. प्रधानमंत्री ने तूफान के कारण गंभीर रूप से घायल हुए लोगों को 50-50 हजार रुपये दिए जाने को भी मंजूरी दी.

धौलपुर और भरतपुर समेत राजस्थान के कई हिस्सों और उत्तर प्रदेश में आंधी तूफान के कारण 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी. कई मकान ढह गए थे. पेड़ गिर गए थे और बिजली के खंभे उखड़ गए थे.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी शनिवार को एसएन मेडिकल कॉलेज व जिला अस्पताल जाकर आंधी व तूफान में घायल लोगों से मुलाकात की तथा जनपद आगरा के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद तहसील खेरागढ़ के ग्राम बुरहरा व तहसील फतेहाबाद के ग्राम शाहदेव में जाकर आपदा प्रभावित लोगों व मृतक के परिजनों को राहत धनराशि के चेक वितरित किए. उन्होंने सदर तहसील के ग्राम धांधुपुरा में जाकर विद्युत तार गिरने से मरने वालों के परिजनों को भी सांत्वना दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help