उपचुनावों में हार: अब योगी को सता रहा है दलित-पिछड़ों का दर्द, हुए भावुक

publiclive.co.in[Edited by विजय दुबे ]

भदोही: सीएम बनने के बाद पहली बार योगी आदित्यनाथ यूपी के भदोही पहुंचे. यहां एक सभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी भावुक हो गए. उनकी बातों में उपचुनाव में मिली हार का दर्द दिख रहा था. लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जब हम हमेशा ऊपर उठकर दलित और पिछड़ों के बेहतरी के लिए काम कर रहे हैं तो इसका श्रेय हमें क्यों नहीं मिल रहा है.

उन्होंने कहा कि जो लोग भारतीय जनता पार्टी पर दलित विरोधी होने का आरोप लगाते हैं उनसे पूछा जाना चाहिए कि उनके शासन काल में कितने दलित और कितने वंचितों को आवास मिले थे? कितने गरीबों को गैस के कनेक्शन मिले थे? कितने दलित और कितने वंचितों को निशुल्क बिजली के कनेक्शन मिले थे? कितने गरीबों के लिए उनके घरों में शौचालय उपलब्ध कराने का काम हुआ था? अगर आप देखेंगे तो उनका स्थान जीरो पर आएगा.
अखिलेश से मिले आप नेता संजय सिंह, देश की हालत को बताया भयावह

सीएम ने कहा कि जब उन्होंने काम ही जीरो किया तो वो आपके कैसे हितैषी हो सकते हैं? अगर बीजेपी बिना भेदभाव के इन योजनाओं को आप तक पहुंचाने का काम कर रही है तो फिर श्रेय भी बीजेपी को मिलना चाहिए.

कैराना और नूरपुर में हार से आहत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां रविवार को सपा-बसपा और कांग्रेस पर तीखा हमला बोला. उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकारों ने दलितों को लूटा, लेकिन वर्तमान सरकार पर दलित विरोधी होने का आरोप लगा रहे हैं.
सांसदों का रिपोर्ट कार्ड तैयार करा रही है बीजेपी, पास होने पर ही मिलेगा 2019 में टिकट

100 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण

योगी ने भदोही जिले में 100 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया. मुख्यमंत्री ने कहा कि भदोही के हस्तशिल्प उद्योग ने दुनिया में यहां की पहचान दिलाई. यहां 1200 करोड़ का बायोफ्यूल संयंत्र लगाया जाएगा.

योगी ने भदोही के कारपेट एक्सपो मार्ट में 100 करोड़ की 106 विकास योजनाओं का शिलान्यास किया. इसके अलावा लाभार्थी परक योजना में 30 लाभार्थियों को प्रतीक और प्रमाणपत्र का वितरण किया. इस दौरान उन्होंने ‘काशी प्रांत’ के सांसद और जनप्रतिनिधियों के साथ समीक्षा बैठक भी की.
आंधी-तूफान ने बर्बाद की आम की 50 फीसदी फसल, किसान को भारी नुकसान

सांसद वीरेंद्र सिंह की मांग पर मुख्यमंत्री ने कहा, “भदोही में गन्ना नहीं पैदा होता है, आप गन्ना की उपज कराइए, फिर चीनी मिल की बात आगे बढ़े. इसके बजाय यहां 1200 करोड़ का बायोफ्यूल संयंत्र लगाया जाएगा, जिसकी वजह से यहां रोजगार बढ़ेगा और बेगारी दूर होगी.”

कृषि और वेटेनरी यूनिवर्सिटी की मांग पर योगी ने अफसरों से प्रस्ताव भेजने को कहा. मंच पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.महेंद्रनाथ पाण्डेय, राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी, संगठन मंत्री रत्नाकर पाण्डेय, सांसद वीरेंद्र सिंह, विधायक भदोही रवींद्रनाथ त्रिपाठी, विधायक औराई दीनानाथ भास्कर, विधायक ज्ञानपुर विजय मिश्र भी मौजूद रहे.
‘बीजेपी समर्थक बच्चों संग घूमने चले गए इसलिए हार गए कैराना और नूरपुर’

युवा और दलितों पर फोकस

मुख्यमंत्री ने कहा कि सूबे में नौकरियों की बाढ़ आ रही है. राज्य में 12 हजार शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया प्रगति पर है. नौकरियों में साक्षात्कार खत्म किया जाएगा. राज्य के शिक्षामित्रों, अनुदेशकों और आंगनबाड़ी का पूरा सम्मान किया जाएगा. यूपी में 5 लाख करोड़ का निवेश होगा.

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि सपा-बसपा और कांग्रेस ने दलितों के लिए क्या किया, इसका जवाब उनके पास नहीं है. कांग्रेस ने अपने 55 साल के कार्यकाल में देश को क्या दिया, जबकि मोदी सरकार ने तो चार साल में देश की दशा और दिशा बदलने का काम किया.
ना गन्ना, ना जिन्ना, कैराना में सोशल इंजीनयरिंग ने बीजेपी को हराया

जनसभा में मुख्यमंत्री ने कहा, “हमारी सरकार ने जाति, धर्म और चेहरा देखकर विकास नहीं किया. सपा सरकार में तो जाति विशेष और कुछ खास जिले का विकास हुआ. हमारी सरकार ने सभी का जीवन स्तर उठाने का काम किया है. विकास जीवन स्तर में परिवर्तन लाकर ही किया जा सकता है.”

उन्होंने कहा, “पुरानी सरकारों ने दलित हितों की चिंता नहीं की, लेकिन हम जाति देखकर योजना नहीं बनाते हैं. केंद्र की मोदी सरकार और यूपी सरकार ने गांव, गरीब, दलित, युवा और किसानों के लिए काम किया. सपा सरकार में सरकारी नौकरियों में जाति विशेष के लोग चयनित हुए. हमारी सरकार योग्यता का पूरा सम्मान करती है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help