जवानों तक गोलियों को पहुंचने से रोकेगा ‘IV’, CRPF ने तैयार किया नया सुरक्षा कवच

publiclive.co.in[Edited by विजय दुबे]

नई दिल्‍ली : जम्‍मू और कश्‍मीर में तैनात आतंकियों की गोलियों का सामना कर रहे जवानों की जिंदगी हमेशा दांव पर लगी रहती है. आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में किसी को पता नहीं होता कि कब, कौन सी गोली कहां से आकर जवानों को अपना शिकार बना ले. आतंकी के खिलाफ ऑपरेशन के दौरान जिंदगी और मौत के बीच खेलने वाले जवानों की रक्षा के लिए CRPF ने एक नया सुरक्षा कवच तैयार किया है. CRPF द्वारा तैयार किए गए नए सुरक्षा कवच का नाम इंटरवेंशन व्‍हीकल (IV) है. जी हां, IV नामक इस सुरक्षा कवच को CRPF बड़ी आसानी से ऑपरेशन वाली जगह पर ले जा सकेगी. CRPF के जवान इसी IV में सवार होकर आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन को अंजाम देंगे. ऑपरेशन के दौरान आतंकियों की तरफ से चलने वाली गोली IV की दीवारों से टकराकर अपना असर खत्‍म कर देगी. वहीं IV के भीतर मौजूदा जवान बिना किसी डर के आंतकियों को अपनी गोलियों का निशाना बना सकेंगे.

IV का हर हिस्‍सा होगा बुलटप्रूफ
CRPF द्वारा तैयार किए गए IV का ह‍र हिस्‍सा बुलटप्रूफ बनाया गया है. IV पहियों को खास तरह के मेटल से तैयार किया गया है. यह पहिए टैंक में लगने वाले रोलर बेल्‍ट की तरह होंगे. आतंकियों की गोलियां और विस्‍फोटक IV के पहियों को नुकसान न पहुंचा सकें, इसके लिए उसे बुलटप्रूफ शीट से कवर किया गया है. इसी तरह, IV की बॉडी को भी बुलटप्रूफ शीट से लगाया गया है. करीब 12 फुट ऊंचे इस IV में चारों तरफ बुलटप्रूफ शीशे लगाए गए हैं. जिससे ऑपरेशन के दौरान उसके भीतर मौजूदा जवान चारों तरफ अपनी निगाह बना सकें और आतंकियों की तरफ से आने वाली गोलियां उनको छू भी न सकें.इमारत में छिपे आतंकियों का किया जा सकेगा खात्‍मा

CRPF के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार करीब 12 फीट ऊंचे इस IV के भीतर दो मंजिले बनाई गई हैं. जिससे एक समय में ज्‍यादा से ज्‍यादा जवानों को उसके भीतर भेजा जा सके. इसके अलावा, IV की ऊंचाई की मदद से घर में घुसे आतंकियों के खिलाफ बेहद करीब से ऑपरेशन चलाया जा सकेगा. मौजूदा समय में ऑपरेशन के दौरान जवान पहले एक ऐसी सुरक्षित जगह को खोजते हैं, जिससे आतंकियों की तरफ से आने वाली गोलियों से बचा जा सके. कई बार यह जगह उस मकान से बहुत अधिक दूरी पर मिलती है, जहां पर आतंकी छिपे हुए हैं. ऐसी स्थिति में सुरक्षाबलों को अत्‍यधिक दूरी से अपने ऑपरेशन को अंजाम देना पड़ता है. कई बार इसी दूरी का फायदा उठाकर आंतकी फरार होने में भी सफल हो जाते हैं. IV आने के बाद आतंकी अपने इन मंसूबों में सफल नहीं हो पाएंगे.

पूरी तरह से इंडियन है IV
CRPF के महानिदेशक आरआर भटनागर के अनुसार IV पूरी तरह से इंडियन है. इसे मेक इन इंडिया स्‍कीम के तहत तैयार किया गया है. IV के भीतर लगा हर उपकरण और पार्ट को भारत में ही तैयार किया गया है. उन्‍होंने बताया कि वर्तमान समय में IV की टेस्टिंग की जा रही है. टेस्टिंग के दौरान सामने आने वाली खामियों को दूर करने के बाद इसे जम्‍मू-कश्‍मीर में तैनात जवानों की मदद के लिए भेज दिया जाएगा. उन्‍होंने बताया कि हमने मेक इन इंडिया के तहत खुद ही IV का डिजाइन तैयार किया है. यह गाड़ी करीब 10 से 12 फीट की बने घरों में छुपे आतंकियों के खिलाफ कारगार ऑपरेशन कर सकती है.

कश्‍मीर में चल रहा है सस्‍पेंशन ऑफ ऑपरेशन
वर्तमान समय में कश्मीर में सस्पेंशन आप ऑपरेशन चल रहा है. जिसके चलते, फिलहाल आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन को रोक दिया गया है. हालांकि दक्षिण कश्‍मीर के ज्‍यादातर इलाकों में ऑपरेशन सस्‍पेंड करने के बावजूद सुरक्षाबलों पर लगातार पत्थरबाजी हो रही है. जम्‍मू-कश्‍मीर में CRPF जहां पत्थरबाजों से निपट रही है, वही पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद को भी मुंहतोड़ जवाब दे रही है. खुफिया एजेंसी के मुताबिक इस साल अब तक 80 से ज्यादा आतंकियों की भर्ती हुई है, जिन्हें सुरक्षाबलों पर हमले की जिम्मेदारी दी गई है. आतंकी गुटों से कहा गया है कि कश्मीर में सरकार के शांति प्रयासों को विफल हर कीमत पर विफल करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help