एयर चाइना से उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग पहुंचे सिंगापुर, 12 जून को होनी है ट्रंप से मुलाकात

publiclive.co.in [ Edited By रवि यादव ]

सिंगापुर: उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ अपनी अप्रत्याशित भेंटवार्ता के लिए रविवार (10 जून) को सिंगापुर पहुंचे. उत्तर कोरिया का परमाणु हथियार भंडार इस वार्ता के एजेंडे में शीर्ष पर होगा. इन परमाणु हथियारों के चलते उत्तर कोरिया को कई संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों का मुंह देखना पड़ा तथा ट्रंप प्रशासन ने उसे सैन्य कार्रवाई की भी धमकी दी. कोरियाई युद्ध का औपचारिक समापन भी उत्तर कोरिया के नेता और उसके साम्राज्यवादी शत्रु के वर्तमान राष्ट्रपति के बीच पहली भेंटवार्ता का विषय होगा.

किम जोंग उन एयर चाइना 747 से सिंगापुर पहुंचे. उड़ान पर नजर रखने वाली वेबसाइट फ्लाइटरडार 24 के अनुसार किम रविवार (10 जून) की सुबह प्योंगयांग से बीजिंग गये और फिर वहां से उन्होंने विमान बदलकर सिंगापुर की ओर रुख किया. सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियान बालकृष्णन ने चांगी हवाई अड्डे पर किम के साथ हाथ मिलाते हुए एक तस्वीर ट्विटर पर डाली. किम मर्सीडीज बेंज गाड़ी से एक सेंटर की ओर गये. उनके काफिले में 20 से अधिक गाड़ियां थीं.

बीते 8 जून को अमेरिका के शीर्ष राजनयिक ने एक संभावना जाहिर करते हुए कहा कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच 12 जून को होने वाली बैठक में किसी प्रकार के लिखित बयान या शासकीय सूचना उभरकर सामने आ सकती हैं, जो वास्तविक उपलब्धियां कही जाएंगी.

डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा, उत्तर कोरिया के साथ शांति कायम करने का ‘एकमात्र मौका’

वहीं दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का कहना है कि उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ उनकी बैठक के दौरान उन्हें एक मिनट में ही इस बात का पता चल जाएगा कि शांति के लिये उनके इस ‘‘एक मात्र प्रयास’’ के भविष्य में सफल होने के आसार है या नहीं. कनाडा में चल रहे जी7 शिखर सम्मेलन के समापन के बाद एशिया की तरफ रवाना होने से पहले ट्रंप ने कहा, ‘यह सही अर्थ में एक अज्ञात क्षेत्र है, लेकिन मैं वास्तव में आत्मविश्वास से भरा हूं.’

उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मुझे लगता है कि किम जोंग उन अपने लोगों के लिए अच्छा करना चाहते हैं और उनके पास ऐसा करने का अवसर है … यह एकमात्र मौका है.’ ट्रम्प ने कहा कि उत्तर कोरिया ‘‘हमारे साथ बेहद अच्छा काम कर रहा है.’’

उत्तर कोरिया पहले सभी परमाणु हथियार नष्ट करें तभी प्रतिबंध हटेंगे: माइक पोम्पियो

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का कहना है कि उत्तर कोरिया से अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध तब तक हटाए नहीं जाएंगे, जब तक वह अपने सभी परमाणु हथियार कार्यक्रमों को नष्ट नहीं कर देता. सीएनएन के मुताबिक, पोम्पियो ने शुक्रवार (8 जून) को साक्षात्कारों के दौरान कहा कि इसमें उत्तरी कोरिया के बाहर स्थित अज्ञात संभावित अवैध स्थल शामिल होंगे.

पोम्पियो ने कहा, “मैं इसके विवरण की गहराई में नहीं जाना चाहता लेकिन जब आप पूर्ण निरस्त्रीकरण की बात करते हैं तो इसमें सभी परमाणु स्थल शामिल होंगे, सिर्फ वहीं नहीं जो सर्वविदित हैं.” उन्होंने कहा, “इसलिए हमें यह सुनिश्चित करना है, कि यह कार्य पूरा हो.” पोम्पियो ने कहा, “परमाणु निरस्त्रीकरण उत्तर कोरिया की ओर से बहुत बड़ी प्रतिबद्धता है और इसके समारूप सुरक्षा आश्वासन भी होना चाहिए.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help