मनिका बत्रा: AIR INDIA और खेल फेडरेशन हुए एक, खिलाड़ियों को ही ठहराया जिम्‍मेदार

publiclive.co.in[Edited by RANJEET]
नई दिल्‍ली: ओवर बुकिंग के चलते कॉमनवेल्‍थ गोल्‍ड मेडलिस्‍ट मनिका बत्रा सहित सात टेबल टे‍निस खिलाडि़यों की फ्लाइट छूटने के मामले ने नया मोड़ ले लिया है. इस मामले में खेल प्राधिकरण और एयर इंडिया ने अपनी-अपनी गलती छिपाने के लिए एक दूसरे हाथ मिला लिया है. अब दोनों ही संस्‍थाओं ने इस पूरे मामले में योजनावद्ध तरीके से मेनबर्न जाने वाले टेबल टेनिस के खिलाडि़यों की कथित गलतियां गिनाना शुरू दी है. यह बात दीगर है कि एयर इंडिया और खेल प्राधिकरण के तमाम बयानों के बावजूद एविएशन रेलुलेटर डायरेक्‍टर जनरल आफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) के नियम अभी भी पीड़ित खिलाडि़यों के साथ ही खड़े हैं.

दरअसल, इस पूरे विवाद की शुरूआत रविवार शाम मोनिका बत्रा के ट्वीट के साथ हुआ. मोनिका बत्रा ने एयरपोर्ट पर हुए पूरे घटनाक्रम को जिक्र करते हुए अपना ट्वीट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और खेल मंत्री राजवर्धन सिंह राठौर को टैग कर दिया. शायद यही बात सभी को नगवार गुजरी. जिसके बाद, खेल प्राधिकरण ने अपने खिलाडि़यों को ही गलत बताना शुरू कर दिया. मनिका बत्रा के इस ट्वीट के बाद प्राणिकरण की महानिदेशक नीलम कपूर ने रिप्‍लाई कर जल्‍द कार्रवाई करने का आश्‍वासन दिया. चूंकि नीलम कपूर ने इस मसले पर सबसे पहले रिप्‍लाई किया था, लिहाजा खेल प्रशंसकों ने ट्वीटर पर ही उनसे सवाल करना शुरू कर दिए.

प्राधिकरण ने कहा देरी से एयरपोर्ट पहुंचे थे खिलाड़ी
इन्‍हीं प्रशंसकों में एक प्रशंसक विक्रम जोशी भी थे. विक्रम जोशी ने नीलम कपूर से पूछा कि ‘देश जानना चाहता है कि इस मिसमैनेजमेंट पर क्‍या कार्रवाई की गई है? यदि यही घटना इंडियन क्रिकेट टीम के साथ यही घटना होती तो क्‍या होता?’ विक्रम जोशी यहीं नहीं रुके, उन्‍होंने कुछ देर बाद दोबारा ट्वीट कर पूछा ‘इस मामले में क्‍या अपडेट है. क्‍या अभी तक खिलाडि़यों के लिए वैकल्पिक फ्लाइट बुक की गई है.’ जिस पर नीलम कपूर ने जवाब दिया कि ‘टीम देस से पहुंचे. टीम को एयरपोर्ट तीन घंटे पहले पहुंचना चाहिए था, 12:40 की फ्लाइट के लिए टीम एयरपोर्ट पर 10:30 पर पहुंची.’

इस ट्वीट ने किया विवाद की आग में घी का काम
नीलम कपूर के इस ट्वीट ने उनके लिए मुसीबत खड़ी कर दी. नीलम कपूर का यह ट्वीट खेल प्रशंसकों को पसंद नहीं आया. दरअसल, इस ट्वीट के जरिए नीलम कपूर ने यह कहने का प्रयास कि इस मसले पर गलती एयर इंडिया की नहीं, बल्कि खिलाडि़यों की है. वे देरी से एयरपोर्ट पहुंचे थे, जिसके चलते उनकी मेलबर्न की फ्लाइट छूट गई. एयर इंडिया ने भी नीलम कपूर के इस ट्वीट को भुनाने में देरी नहीं की. एयर इंडिया ने भी इस मसले पर नीलम कपूर के ट्वीट को अपना आधिकारिक बता दिया. नीलम कपूर के इसी ट्वीट ने इस पूरे विवाद में घी का काम किया. कहा गया कि नीलम कपूर ने एयरपोर्ट पर एयरलाइंस द्वारा दी जाने वाली सलाह को खिलाडि़यों की गलती बताने के लिए इस्‍तेमाल किया है.

यह भी पढ़ें: एयर इंडिया ने कॉमनवेल्‍थ गोल्‍ड मेडलिस्ट मनिका बत्रा को मेलबर्न ले जाने से किया इनकार

3 घंटे पहले पहुंचने का प्रावधान, एक सलाह है नियम नहीं
वहीं, नीलम कपूर द्वारा बताए गए नियम के बाबत अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट के वरिष्‍ठ अधिकारी से बात की, तो उन्‍होंने बताया कि तीन घंटे पहले एयरपोर्ट आने की बात एयरलाइंस द्वारा मुसाफिरों को दी जाने वाली एक सलाह है. दरअसल, अतंरराष्‍ट्रीय यात्रा पर जाने वाले मुसाफिरों को एयरपोर्ट पर चार प्रक्रियाओं से गुजरना होता है. इसमें चेक-इन, इमीग्रेशन, कस्‍टम और सिक्‍योरिटी चेक शामिल है. इन सभी प्रक्रियाओं को पूरा करने में अमूमन मुसाफिरों को दो से ढाई घंटे का समय लग जाता है. जिसके चलते मुसाफिरों को तीन घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचने की सलाह दी जाती है.

एक घंटे पहले बंद होता है इंटरनेशनल फ्लाइट का चेक-इन
वहीं नियमों की बात करें तो डायरेक्‍टर जनरल आफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार, किसी भी अंतराष्‍ट्रीय उड़ान के लिए एयरलाइंस का चेक-इन काउंटर फ्लाइट के निर्धारित समय से एक घंटे पहले बंद कर दिया जाता है. मसलन, यदि खिलाडि़यों की फ्लाइट का शेड्यूल्‍ड टाइम रात्रि 12:40 बजे का है तो एयरलाइंस रात्रि 11:40 बजे तक बोर्डिंग पास जारी कर सकती है. वहीं नीलम कपूर के ट्वीट में बताया गया है कि सभी खिलाड़ी रात्रि 10:40 बजे एयरपोर्ट पहुंचने की बात कही गई है. ऐसे में मनिका बत्रा सहित सभी खिलाडि़यों के पास एक घंटे का अतिरिक्‍त समय था. ऐसे में कोई भी एयरलाइंस देरी की बात कह बोर्डिंग देने से इंकार नहीं कर सकती है.

फेडरेशन की तरह से रही यें गलतियां
वहीं, इस बा‍बत एयरपोर्ट से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारियों ने प्राधिकरण की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं. उन्‍होंने बताया कि फेडरेशन की तरफ से भी खिलाडि़यों के टिकट अलग-अलग बुक किए गए थे. सभी मुसाफिरों के पीएनआर नंबर अलग थे. फेडरेशन की तरफ से एयरलाइंस को किसी तरह के ग्रुप बुकिंग का अनुरोध नहीं भेजा गया था, इतना ही नहीं, खिलाडि़यों की चेक-इन प्रक्रिया फैसिलिटेट कराने के लिए फेडरेशन की तरफ से कोई प्रतिनिधि एयरपोर्ट पर मौजूद नहीं था. उन्‍होंने बताया कि जब फेडरेशन को पता था कि सभी मुसाफिर एक ही गंतव्‍य पर एक ही फ्लाइट से जाने वाले हैं, तब उन्‍हें सभी खिलाडि़यों की टिकट एक ही पीएनआर पर बुक कराना चाहिए था. जिससे एक ही टिकट पर सभी खिलाडियों के बोर्डिंग पास जारी कर दिए जाते.

मनिका बत्रा ने धन्‍यवाद कह किया मामले का पटाक्षेप
इस पूरे घटनाक्रम के बाद, मनिका बत्रा ने अपने बोर्डिंग कार्ड के साथ एयरपोर्ट से अपनी एक तस्‍वीर पोस्‍ट की. जिसमें, उन्‍होंने अपना बोर्डिंग कार्ड दिखाते हुए नीलम कपूर को धन्‍यवाद दिया है. उन्‍होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि मुझे मेरा बोर्डिंग पास मिल गया है, जल्‍द ही उड़ान पर रवाना होऊंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help