IIT दिल्ली सिखाएगी कचरा बीनने का गुर,मिलेगा अच्छा पैसा और स्वास्थ्य

publiclive.co.in [EDITED BY SIDDHARTH SINGH]

नई दिल्ली: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली की मदद से एक संस्थान ने रैग-पिकर (कचरा बीनने वाला) को प्रशिक्षण देने की एक विशेष पहल शुरू की है, जिसके तहत उन्हें कचरा बीनने में मिलने वाली वस्तुओं की बेहतर कीमत मिलेगी. आईआईटी-दिल्ली के मौलिक विचार की उपज इंडियन पलूशन कंट्रोल एसोसिएशन (आईपीसीए) ने बयान में कहा कि उत्तर भारत में मुख्य रूप से दिल्ली, नोएडा और गुड़गांव के 2,000 रैग-पिकर को अब कचरा प्रबंधन परियोजना में शामिल किया गया है.

आईपीसीए ने कहा, ‘महत्वपूर्ण सेवा के बावजूद भारत में रैग-पिकर को जीवन-निर्वाह के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. उन्हें हमेशा हानिकारक पदार्थो का खतरा बना रहता है, लेकिन उनको पारिश्रमिक कम मिलता है और उनके लिए मूलभूत सुविधाओं का भी अभाव है’. कचरे को अलग करने के बाद पुनर्चक्रण यानी दोबारा उपयोग में लाने वाली वस्तुएं कबाड़ीवाले को बेजी जाती हैं, जबकि गीला कचरा मवेशियों के चारे के रूप में उपयोग होता है, जोकि बहुत कम कीमतों पर बिकता है.

आईपीसीए ने बताया कि सबसे बड़ी समस्या रिश्वत और ठेकेदारी की व्यवस्था को लेकर है. नगर निगम द्वारा कचरा संग्रह किए जाने की व्यवस्था शुरू होने के बाद उनके लिए कचरा मिलना चुनौतीपूर्ण कार्य हो गया है. आईपीसीए ने कहा, ‘इसलिए अब वे कचरे से कीमती चीजें संग्रह करने के लिए एमसीडी अधिकारियों को कचरे की कीमत चुकाना पड़ेगा. यह कीमत उनको तब भी चुकानी पड़ेगी, जब वे कचरे के खुले डब्बे से कचरा संग्रह करेंगे, क्योंकि एमसीडी अधिकारी कमीशन मांगते हैं’.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help