उन्नाव: मजदूरों के लिए कब्रगाह बनी फैक्ट्री, जहरीली गैस रिसने से 3 की मौत, 2 की हालत नाजुक

publiclive.co.in [EDITED BY SIDDHARTH SINGH]

दयाशंकर, उन्नाव: उन्नाव में एक फैक्ट्री में जहरीली गैस के रिसने से वहां काम कर रहे तीन मजदूरों की मौत हो गई. सुबह घर से फैक्ट्री में काम करने के लिए निकले इन मजदूरों के लिए फैक्ट्री कब्रगाह बन गई. शहर कोतवाली थाना क्षेत्र के सिंगरोसी स्थित दुर्गा इंटरनेशनल फैक्ट्री में तिरपाल रंगाई का काम होता है. फैक्ट्री में रंग घोलने के लिए बने टैंक का नोजल ठीक करने के लिए ये मजदूर टैंक में उतरे थे. टैंक में गंदे पानी से निकलने वाली जहरीली गैस के रिसाव से तीनों मजदूर उसकी चपेट में आ गए. जबतक मजदूरों को मदद मिलती, इनकी मौत हो चुकी थी.

जानकारी के मुताबिक, इन मजदूरों को बचाने के लिए टैंक में उतरे दो अन्य मजदूर भी जहरीली गैस की चपेट में आ गए. आनन-फानन में इन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. दोनों मजदूरों की हालत गंभीर बताई जा रही है. सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे. मामले की जांच की जा रही है. दो हफ्ते पहले मेरठ की एक मीट फैक्ट्री में गड्ढे की सफाई के दौरान भी जहरीली गैस का रिसाव होने से तीन मजदूरों की मौत हो गई थी.

उन्नाव कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित दुर्गा इंटर प्राइसेस फैक्ट्री में मैयाखेड़ा गांव निवासी आशीष, सिंगरोसी निवासी हारुन और रामबक्स, खेड़ा निवासी भजनलाल और हरिराम, हरदोई के माधोगंज लीलामऊ गांव के रहने वाले अखिलेश काम करते थे. सोमवार की सुबह फैक्ट्री में बने रंग घोलने के टैंक का नोजल ठीक करने के लिए अखिलेश, भजनलाल, हारुन और आशीष उतरे थे. इसी बीच नोजल खुल गया, जिससे टैंक में जहरीली गैस का गुबार बन गया.

टैंक में उठी जहरीली गैस से मजदूरों का दम घुटने लगा. आनन-फानन में फायर ब्रिगेड को फोन कर फायर फाइटर्स को मौके पर बुलाया गया. फायर फाइटर्स की मदद से टैंक से मजदूरों को बाहर निकाला गया. सभी को तुरंत जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. डॉक्टरों ने आशीष, भजन लाल और हारुन को मृत घोषित कर दिया, जबकि हरिराम और अखिलेश की हालत गंभीर बनी हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help