होटल और महलों को छोड़, अंबानी ने अपने बेटे की शादी के लिए चुना उत्तराखंड का ये मंदिर

publiclive.co.in [EDITED BY SIDDHARTH]

नई दिल्ली/रुद्रप्रयाग: देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी के बेटे आकाश और हीरा कारोबारी रसेल मेहता की बेटी श्लोका की ग्रैंड सगाई सेलिब्रेशन के बाद ये चर्चा तेज हो चली थी कि इस नए जोड़े की शादी कहां और कैसे होगी. आकाश और श्लोका की शादी को लेकर ये चर्चाएं हैं कि मध्य हिमालय में स्थित त्रियुगीनारायण मंदिर में उद्योगपति मुकेश अंबानी अपने बड़े बेटे आकाश के विवाह की कुछ रस्म पूरी कर सकते हैं. इसे शादी के लिए तैयार किया जा रहा है. मार्च 2018 को रुद्रप्रयाग में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसे वेडिंग डेस्टिनेशन घोषित किया था. ऐसी मान्यता है कि उत्तराखंड की वादियों के बीच इस मंदिर में भगवान शिव और माता पार्वती की शादी हुई थी.

यहां हुआ था भगवान शिव-पार्वती का विवाह
मान्यता है कि भगवान शंकर ने हिमालय के मंदाकिनी क्षेत्र के त्रियुगीनारायण में माता पार्वती से विवाह किया था. इसका प्रमाण है यहां जलने वाली अग्नि की ज्योति जो त्रेतायुग से निरंतर जल रही है. कहते हैं कि भगवान शिव ने माता पार्वती से इसी ज्योति के समक्ष विवाह के फेरे लिए थे. तब से अब तक यहां अनेक जोड़े विवाह बंधन में बंधते हैं. लोगों का मानना है कि यहां शादी करने से दांपत्य जीवन सुख से व्यतीत होता है. त्रेतायुग का ये शिव-पार्वती के विवाह का स्थल रुद्रप्रयाग जिले के सीमांत गांव में त्रियुगीनारायण मंदिर के रूप में वर्तमान में आस्था का केंद्र है.

wedding of aakash ambani and shloka may be held in Trigunarnarayan tample in Uttarakhand

त्रियुगीनारायण में है गहरी आस्था
केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम के साथ ही मध्य हिमालय में स्थित त्रियुगीनारायण मंदिर से देश के उद्योगपति अंबानी परिवार का पुराना रिश्ता रहा है. 40 साल पहले साल 1978 में धीरू भाई अंबानी अपने दोनों बेटो के साथ त्रियुगीनारायण मंदिर में आकर भगवान का आशीर्वाद लिया था. यहां पर पूजा अर्चना करने के बाद वह केदारनाथ दर्शनों को गए थे.

wedding of aakash ambani and shloka may be held in Trigunarnarayan tample in Uttarakhand

रिलायंस ग्रुप की चार सदस्यी पहुंची मंदिर
रुद्रप्रयाग से तकरीबन 80 किमी दूर गौरीकुंड के पास त्रियुगीनारायण मंदिर स्थित है. करीब पांच दिन पहले रिलायंस ग्रुप की चार सदस्यी टीम पांच दिन पूर्व त्रियुगीनारायण मंदिर पहुंची थी और उन्होंने मंदिर की लोकेशन के साथ-साथ यहां रहने के लिए गढ़वाल मंडल विकास निगम के बंगले की भी निरीक्षण कर पूरी जानकारी ली.

wedding of aakash ambani and shloka may be held in Trigunarnarayan tample in Uttarakhand

ये है पौराणिक कथा
हिंदू पौराणिक ग्रंथों के अनुसार पार्वतराज हिमावत या हिमावन की पुत्री थी. पार्वती के रूप में सती का पुनर्जन्म हुआ था. पार्वती ने शुरू में अपने सौंदर्य से शिव को रिझाना चाहा लेकिन वे सफल नहीं हो सकी. त्रियुगीनारायण से पांच किलोमीटर दूर गौरीकुंड कठिन ध्यान और साधना से उन्होंने शिव का मन जीता. जो श्रद्धालु त्रियुगीनारायण जाते हैं, वे गौरीकुंड के दर्शन भी करते हैं. पौराणिक ग्रंथ बताते हैं कि शिव ने पार्वती के समक्ष केदारनाथ के मार्ग में पड़ने वाले गुप्तकाशी में विवाह प्रस्ताव रखा था. इसके बाद उन दोनों का विवाह त्रियुगीनारायण गांव में मंदाकिनी सोन और गंगा के मिलन स्थल पर संपन्न हुआ.

ऐसा भी कहा जाता है कि त्रियुगीनारायण हिमावत की राजधानी थी. यहां शिव पार्वती के विवाह में विष्णु ने पार्वती के भाई के रूप में सभी रीतियों का पालन किया था. जबकि, ब्रह्मा इस विवाह में पुरोहित बने थे. उस समय सभी संत-मुनियों ने इस समारोह में भाग लिया था. विवाह स्थल के नियत स्थान को ब्रह्म शिला कहा जाता है, जो कि मंदिर के ठीक सामने स्थित है. इस मंदिर के महात्म्य का वर्णन स्थल पुराण में भी मिलता है.

wedding of aakash ambani and shloka may be held in Trigunarnarayan tample in Uttarakhand

विवाह से पहले सभी देवताओं ने यहां स्नान भी किया और इसलिए यहां तीन कुंड बने हैं जिन्हें रुद्र कुंड, विष्णु कुंड और ब्रह्मा कुंड कहते हैं. इन तीनों कुंड में जल सरस्वती कुंड से आता है. सरस्वती कुंड का निर्माण विष्णु की नासिका से हुआ था और इसलिए ऐसी मान्यता है कि इन कुंड में स्नान से संतानहीनता से मुक्ति मिल जाती है. जो भी श्रद्धालु इस पवित्र स्थान की यात्रा करते हैं. वे यहां प्रज्वलित अखंड ज्योति की भभूत अपने साथ ले जाते हैं ताकि उनका वैवाहिक जीवन शिव और पार्वती के आशीष से हमेशा मंगलमय बना रहे.

इन हस्तियों ने की यहां शादी
उत्तराखंड के राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत
टीवी कलाकार कविता कौशिक
आइएएस अपर्णा गौतम
उत्तराखंड के पहले बैच के पीसीएस टॉपर ललित मोहन रयाल व रश्मि रयाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help