जब पाकिस्‍तान की एक छात्रा ने पूरी क्‍लास के सामने गाया जन गण मन और फिर …

publiclive.co.in[EDITED BY SIDDHARTH SINGH]

नई दिल्‍ली: पाकिस्‍तान में रहने वाले हर बाशिंदे के दिल में हिन्‍दुस्‍तान के लिए सिर्फ नफरत बसती है! इस बात से ज्‍यादातर हिन्‍दुस्‍तानी भले ही इत्तेफाक रखते हों, लेकिन हकीकत इससे बिल्‍कुल अलग है. हकीकत यह है कि आज भी पाकिस्‍तान में बहुत से ऐसे लोग हैं जो हिन्‍दुस्‍तान के प्रति सकारात्‍मक नजरिया रखते हैं. इन लोगों को आज भी आशा है कि हिन्‍दुस्‍तान और पाकिस्‍तान के बीच एक न एक दिन रिश्‍ते बेहतर होंगे. दोनों मुल्‍कों में 1906 से पहले जैसा भाईचारा कायम होगा. दरअसल, 1906 में ही हिन्‍दू और मुस्लिम के बीच खाई पैदा करने वाली मुस्लिम लीग की नींव रखी गई थी.

खैर, हम सब के लिए सुकून देने वाली सबसे अहम बात यह है कि दोनों मुल्‍कों में अमन और भाईचारे की आशा रखने वालों में नई पीढ़ी के युवक और युवतियों की संख्‍या सर्वाधिक है. दोनों मुल्‍कों में भाईचारे का सपना देखने वालों में लाहौर के एक कॉलेज की छात्रा अमबरीन रियाज भी है. अमबरीन रियाज ने बीते दिनों कुछ ऐसा किया है, जिससे अमन के दुश्‍मनों में खलबली मच गई है. 13 सितंबर 2018 को पाकिस्‍तान के एक कॉलेज से पैदा हुई यह खलबली देखते ही देखते अब पूरे पा‍किस्‍तान में फैल चुकी है. आइए आपको बताते हैं कि अमबरीन ने ऐसा क्‍या किया जिससे पूरे पाकिस्‍तान में खलबली मची हुई है.

ambreen riaz 2

इस तरह पैदा हुई भारत के प्रति दिलचस्‍पी
पाकिस्‍तान के लाहौर में रहने वाली अमबरीन रियाज ने बचपन से लेकर युवावस्‍था तक हिन्‍दुस्‍तान और पाकिस्‍तान के बीच मौजूद दुश्‍मनी की तमाम कहानियां सुनी थीं. दुश्‍मनी की इन कहानियों ने अमबरीन के दिल में हिन्‍दुस्‍तान के प्रति एक अलग दिलचस्‍पी पैदा कर दी थी. इसी दिलचस्‍पी का असर था कि वह इंटरनेट के जरिए हिन्‍दुस्‍तान के बारे में ज्‍यादा से ज्‍यादा जानने की कोशिश करने लगी. इन्‍हीं कोशिशों के बीच सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिए अमबरीन की दोस्‍ती कई हिन्‍दुस्‍तानी युवक-युवतियों से हो गई. हिन्‍दुस्‍तानी युवक और युवतियों से संवाद के बाद अमबरीन को अहसास हुआ कि सब कुछ वैसा नहीं है, जैसा पाकिस्‍तान में दिखाया और बताया जाता है.

दबी जुबां से हिन्‍दुस्‍तान की बातें
अब तक अमबरीन को यह पता चल चुका था कि हिन्‍दुस्‍तान में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो पाकिस्‍तान के प्रति न केवल सकारात्‍मक नजरिया रखते हैं, बल्कि वे दोनों मुल्‍कों के बीच अमन के हिमायती भी हैं. हालांकि यह बात दीगर थी कि पाकिस्‍तान में मौजूद माहौल के बीच वह अपने अहसास को खुलकर बयां नहीं कर सकती थी. कभी-कभी वह अपने दोस्‍तों के बीच दबी जुबां से हिन्‍दुस्‍तान के बारे में बात शुरू करती थी, लेकिन यह बात इस डर से आगे नहीं बढ़ पाती थी कि कहीं उस पर अपने मुल्‍क की खिलाफत करने का आरोप न लग जाए. समय ऐसे ही बीतता गया.

ambreen riaz 1

नहीं थी सहपाठियों से ऐसी उम्‍मीद
कुछ दिनों पहले अमबरीन अपनी क्‍लास में अपने सभी सहपाठियों के साथ मौजूद थी. सहपाठियों के बीच गानों का सिलसिला जारी थी. सभी अपने अपने पसंद के गाने सुना रहे थे. अब गाना सुनाने की बारी अमबरीन की थी. अमबरनी ने अपने लैपटॉप में मौजूद एक बैकग्राउंड म्‍यूजिक शुरू किया. बैकग्राउंड म्‍यूजिक शुरू होते ही अमबरीन की आंखें बंद हो गईं और उसने पूरे सम्‍मान और शिद्दत के साथ भारतीय राष्‍ट्रगान जन गण मन… गाना शुरू किया. अमबरीन की आंखें भारतीय राष्‍ट्रगान की आखिरी लाइन तक बंद रहीं. भारतीय राष्‍ट्रगान खत्‍म करने के बाद जब आंखें खोलीं तो क्‍लास का नजारा देखकर दंग रह गई.

सहपाठियों से मिली हौसलाअफजाई
अहसास से परे सहपाठियों की प्रतिक्रिया पाकर उसकी आंखों से आंसू छलक पड़े. दरअसल, अमबरीन की आंखें खुलते ही पूरा क्‍लास तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज गया. साथियों की तालियों की गूंज के साथ अमबरीन को अहसास हो गया कि हिन्‍दुस्‍तान से दोस्‍ती की आशा रखने वाली वह अकेली नहीं, बल्कि उसकी पूरी क्‍लास उसके साथ खड़ी है. अपने सहपाठियों से मिले इस साथ ने अमबरीन को आत्‍मविश्‍वास से भर दिया. अमबरीन ने अपने इस अहसास के बाबत ट्विटर पर लिखा है कि “आज मैंने अपनी क्‍लास में भारतीय राष्‍ट्रगान गाया. मेरे सहपाठियों ने मेरा वीडियो बनाया. जैसे ही मैंने राष्‍ट्रगान पूरा किया सभी ने तालियां बजाकर मेरी हौसलाअफजाई की. ओह माई गॉड! कितना सुंदर मौका था यह.”

ambreen riaz

शुरू हुआ धमकियों का दौर
अमबरीन ने अपनी इस खुशी का इजहार 13 सितंबर 2018 की शाम 3:24 बजे ट्विटर पर कर दिया. अमबरीन के इस इजहार के साथ पूरे पाकिस्‍तान में खलबली मच गई. ज्‍यादातर लोग अमबरीन के पक्ष में खड़े नजर आए, लेकिन ऐसे लोगों की कमी नही थी, जिन्‍होंने अमबरीन को निशाना बनाना शुरू कर दिया. किसी ने कश्‍मीर में चल रहे इंडियन आर्मी के ऑपरेशन की तस्‍वीरें उसे पोस्‍ट की, तो किसी ने कौम और मुल्‍क का वास्‍ता देकर उसे कोसना शुरू कर दिया. अब तक भारत के प्रति अपने अहसास को दबी जुबां से बोलने वाली अमबरीन ने अब खुलकर अमन के दुश्‍मनों को जवाब देना शुरू कर दिया.

अमन के दुश्‍मनों को दिया करारा जवाब
अमन के दुश्‍मनों को दिए अपने पैगाम में अमबरीन ने लिखा कि ‘यदि मैं भारतीय राष्‍ट्रगान वाला ऑडियो क्‍लिप पोस्‍ट करती हूं तो मुझे आतंकवादी, देशद्रोही और न जाने क्‍या क्‍या कह दिया जाएगा. मुझे इस बात की बिल्‍कुल भी परवाह नहीं है कि लोग मेरे बारे में क्‍या सोचते हैं, क्‍योंकि मेरा अल्‍लाह मुझे सबसे बेहतर जानता है, इसीलिए मैं उन सभी लोगों को नजरअंदाज कर रही हूं जो मेरे बारे में नकारात्‍मक हैं.’ बात यहीं पर खत्‍म नहीं हुई. अमन के दुश्‍मन अब अमबरीन की पहचान करने में जुट गए. लगातार सोशल नेट‍वर्किंग साइट पर उसे धमकाया गया. वहीं अमबरीन ने डरने की बजाय अपना कदम आगे बढ़ाया और अपना ऑडियो क्लिप ट्विटर पर पोस्‍ट कर दिया.

अमबरीन का यह पोस्‍ट न केवल पाकिस्‍तान बल्कि हिन्‍दुस्‍तान के बीच तेजी से पॉपुलर होता जा रहा है. बड़ी संख्‍या में नौजवान सामने आकर दोनों मुल्‍कों के बीच अमन बातें करने लगे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help