Asia Cup 2018: हॉन्गकॉन्ग के खिलाफ पाक से भिड़ंत की तैयारी करने उतरेगा भारत

publiclive.co.in[Edited by RANJEET]
दुबई: भारत की मजबूत टीम मंगलवार (18 सितंबर) को जब एशिया कप 2018 में कमजोर माने जाने वाले हॉन्गकॉन्ग के खिलाफ उतरेगी तो उसकी नजरें बुधवार को चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले बहुप्रतीक्षित मुकाबले की तैयारी पर टिकी होंगी. भारत-पाक की प्रतिद्वंद्विता से पहले हॉन्गकॉन्ग मैच भारतीय प्रशंसकों के लिए ट्रेलर की तरह होगा. नियमित कप्तान विराट कोहली की गैरमौजूदगी के बावजूद रोहित शर्मा की अगुआई वाली टीम एकदिवसीय प्रारूप में काफी मजबूत है. रोहित और उनकी टीम हॉन्गकॉन्ग को हल्के में नहीं लेना चाहेगी क्योंकि उसे इसके अगले ही दिन फार्म में चल रही पाकिस्तान की टीम से भिड़ना है.

दुबई में तापमान 43 डिग्री सेल्सियस के आसपास चल रहा है और ऐसे में भारत बड़े मुकाबले से पहले अपना सही संयोजन तैयार करना चाहेगा. हॉन्गकॉन्ग को अपने पहले मैच में पाकिस्तान के खिलाफ आठ विकेट से हार का सामन करना पड़ा था. इस एकतरफा मैच में टीम 116 रन ही बना सकी थी.

अगर कोई करिश्मा नहीं होता है तो रोहित, शिखर धवन, लोकेश राहुल, केदार जाधव जैसे बल्लेबाजों और जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल जैसे गेंदबाजों वाली भारतीय टीम के खिलाफ हॉन्गकॉन्ग के प्रदर्शन में काफी बड़े सुधार की उम्मीद नहीं की जा रही.

धोनी की बल्लेबाजी पर भी उठ रहे हैं सवाल
पिछले कुछ वर्षों से महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी पर लगातार सवाल उठते रहे हैं और यह टूर्नामेंट तय करेगा कि वह लय में हैं या नहीं. भारत के लिए पांचवां, छठा और सातवां नंबर पर कौन बल्लेबाजी करेगा यह तय नहीं हो पा रहा है. धोनी अगर सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हैं तो उन्हें डेथ ओवरों में मोहम्मद आमिर के अलावा उस्मान खान और हसन अली जैसे गेंदबाजों का सामना करना पड़ेगा.

पांचवें नंबर पर केदार जाधव या मनीष पांडे में से एक को मौका मिल सकता है और अगर पूर्व कप्तान धोनी छठे नंबर पर बल्लेबाजी का फैसला करते हैं तो सातवें नंबर पर हार्दिक पंड्या की बड़े शॉट खेलने की क्षमता भारत के लिए अहम हो सकती है.

मध्यक्रम है भारत की चिंता
मध्यक्रम पिछले कुछ समय से भारत के लिए चिंता का विषय रहा है और अगले साल होने वाले विश्व कप से पूर्व भारत को इस समस्या का हल निकालना होगा. लोकेश राहुल के तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने की उम्मीद है लेकिन आमिर या हसन की अंदर आती गेंदें उनके लिए समस्या पैदा कर सकती हैं जैसा कि इंग्लैंड में हुआ था.

बीसीसीआई पहले ही श्रीलंका के बाएं हाथ के थ्रोडाउन विशेषज्ञ को नियुक्त कर चुका है, जिससे कि भारत को पाकिस्तान के बाए हाथ के तेज गेंदबाजों का सामना करने में दिक्कत नहीं हो. टीम में खलील अहमद भी मौजूद हैं जो बल्लेबाजों को जरूरी अभ्यास करा सकते हैं. धवन, राहुल और पांड्या जैसे बल्लेबाजों को विकेट की अलग तेजी और लेंथ से सामंजस्य बैठाना होगा.

गेंदबाजी में आया है निखार
जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर तथा कुलदीप और चहल का संयोजन एक बार फिर मैदान पर नजर आएगा जो पिछले एक साल से भारत को अच्छे नतीजे दे रहा है. हॉन्गकॉन्ग के खिलाफ मुकाबला भुवनेश्वर के लिए लय हासिल करने का मौका होगा क्योंकि वह पीठ की चोट के कारण लंबे समय तक बाहर रहे हैं. उन्होंने हाल में दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ भारत ए की ओर से वापसी की.

भारत और पाकिस्तान के खिलाफ मैच के लिए टिकटों की कीमतें 1600 डॉलर (लगभग एक लाख 15 हजार रुपए) तक भी हैं. बुधवार को स्टेडियम के खचाखच भरा होने की उम्मीद है जबकि हॉन्गकॉन्ग मैच के दौरान भी बड़ी संख्या में भारतीय दर्शक मैदान में पहुंच सकते हैं.

टीमें इस प्रकार हैं:

भारत: रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, लोकेश राहुल, अंबाती रायुडू, मनीष पांडे, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी, हार्दिक पंड्या, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, शारदुल ठाकुर, दिनेश कार्तिक और खलील अहमद.

हॉन्गकॉन्ग: अंशुमान रथ (कप्तान), ऐजाज खान, बाबर हयात, कैमरन मैकुलसन, क्रिस्टोफर कार्टर, अहसन खान, अहसन नवाज, अर्शद मोहम्मद, किंचित शाह, नदीम अहमद, राग कपूर, स्काट मैकेहनी, तनवीर अहमद, तनवी अफजल, वकास खान और आफताब हुसैन.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help