जबड़े के कैंसर को मात देकर वापसी करेंगे अरुण लाल

publiclive.co.in [edited by RANJEET]

बंगाल के कोच के रूप में साईराज बहुतुले के भविष्य को लेकर चल रही अटकलों के बीच भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज अरुण लाल को रणजी ट्रॉफी टीम का मेंटर नियुक्त किया गया. बंगाल की रणजी ट्रॉफी टीम के संभावित खिलाड़ियों के तैयारी शिविर के तौर बहुतुले मौजूद नहीं थे. यह शिविर कैब के विजन 2020 सलाहकार वीवीएस लक्ष्मण के मार्गदर्शन में सोमवार को जाधवपुर विश्वविद्यालय द्वितीय परिसर मैदान में शुरू हुआ.

साईराज बहुतुले से प्रतिक्रिया नहीं ली जा सकी है और कोई भी यह पुष्टि नहीं कर पाया है कि वह टीम से जुड़ने के इच्छुक हैं कि नहीं. कैब के बयान में सिर्फ अरुण लाल को मेंटर नियुक्त करने की घोषणा की गई.

बंगाल के पूर्व कप्तान अरुण लाल ने 16 टेस्ट और 13 वन-डे में भारत का प्रतिनिधित्व किया और वह जाने माने टीवी कमेंटेटर हैं. अरुण लाल ने अपने सात साल के क्रिकेट करियर में 16 टेस्ट में 26.03 की औसत से 729 रन बनाए. इसमें छह अर्धशतक शामिल हैं. अरुण लाल अपने क्रिकेट करियर में एक भी शतक नहीं लगा पाए. टेस्ट में उनका अधिकतम स्कोर 93 रन रहा है.

Top 5 Batsmen of Ranji Trophy 2017-18 are knocking to be in team india
1989 में संन्यास लेने वाले अरुण लाल ने 13 वन-डे में 9.38 की औसत से 122 रन बनाए हैं. उनका अधिकत स्कोर 51 रन है. 63 साल के अरुण लाल इंटरनेशनल लेवल पर भले ही ज्यादा सफल नहीं हो पाए, लेकिन फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उनका प्रदर्शन शानदार रहा है. उन्होंने 156 फर्स्ट क्लास मैच में 46.94 की औसत से 10,421 रन बनाए हैं. इसमें 30 शतक शामिल हैं.

वह हाल में जबड़े के कैंसर से उबरने में सफल रहे. पहले दो रणजी ट्राफी मैच के लिए टीम और सहयोगी स्टाफ का चयन 26 अक्टूबर को किया जाएगा. टीम अपना पहला रणजी मैच हिमाचल प्रदेश के खिलाफ उसी के मैदान पर खेलेगी जबकि दूसरे मैच में मध्य प्रदेश के खिलाफ अपने मैदान पर उतरेगी.

बता दें कि अरुण लाल अपनी कप्तानी में बंगाल को 1989-90 में रणजी ट्रॉफी का खिताब भी दिला चुके हैं. उस साल बंगाल ने 51 साल बाद रणजी ट्रॉफी का खिताब जीता था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help