खत्‍म होगा एटीसी के चलते विमानों के विलंब होने का सि‍लसिला, AAI ने उठाया यह बड़ा कदम

publiclive.co.in[Edited by DIVYA SACHAN]
एयर ट्रैफिक कंट्रोल के चलते विमानों के विलंब होने का‍ सिलसिला जल्‍द खत्‍म होगा. एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) ने विमानों के समय पर परिचालन के लिए बड़ा कदम उठाया है. इस कदम के तहत, देश में पहली बार रडार की मेनटिनेंस के लिए स्‍पेशल मेंटिनेंस यूनिट की स्‍थापना की है, जिसका उद्घाटन मंगलवार को एएआई के चेयरमैन डॉ. गुरुप्रसाद महापात्रा और चेक रिपब्लिक के एंबेसडर मिलन होर्वोका ने किया है.

विमानन क्षेत्र से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, बीते मई के महीने में करीब सात फीसदी फ्लाइट की देरी से परिचालन की वजह एयर ट्रैफिक कंट्रोल था. एटीसी के चलते विमानों के परिचालन में होने वाले विलंब में खराब हो चुके रडार सिस्‍टम बड़ी भूमिका अदा करते हैं. अब इन रडार सिस्‍टम को दुरुस्‍त करने के लिए एएआई ने देश में पहली बार स्‍पेशलाइज्‍ड मेनटीनेंस यूनिट स्‍थापित किया है. इस यूनिट में रडार की मरम्‍मत के साथ उनके मेनटीनेंस का काम भी किया जाएगा.

एएआई के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, इस स्‍पेशलाइज्‍ड मेनटीनेंस यूनिट को मेसर्स एल्‍डिस (ELDIS) की मदद से तैयार किया गया है. ELDIS ने इस यूनिट के लिए न केवल हार्डवेयर और साफ्टवेयर टूल उपब्‍ध कराए हैं, बल्कि इंजीनियर्स को प्रशिक्षित भी किया है. उन्‍होंने बताया कि इस यूनिट की मदद से खराब पड़े रडार को दुरुस्‍त कर विमानों के टर्न अराउंड टाइम को कम करने में मदद मिलेगी. उल्‍लेखनीय है कि मौजूदा समय में करीब 80 फीसदी इंडियन एयर स्‍पेस रडार की जद में आता है.

उन्‍होंने बताया कि ELDIS और एएआई द्वारा स्‍थापित किए गए इस स्‍पेशलाइज्‍ड मेनटीनेंस यूनिट के जरिए न केवल देश में मौजूद रडार सिस्‍टम को बेहतर बनाया जा सकेगा, बल्कि यह सुविधा एशिया पेसिफिक रीजन में आने वाले एयरपोर्ट को भी इस यूनिट की मदद उपलब्‍ध कराई जा कसेगी. उन्‍होंने बताया कि इस यूनिट को स्‍थापित करने में कुल 30 करोड़ रुपए की लागत आई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help