INDvsWI 1st ODI: क्या नंबर-4 पर फिर प्रयोग करेगा भारत, इस बार 4 खिलाड़ी हैं दावेदार

publiclivenews.in[Edited by DIVYA SACHAN]
भारत और वेस्टइंडीज की टीमें टी20 सीरीज के बाद वनडे सीरीज में दो-दो हाथ करने को तैयार हैं. टी20 सीरीज भारत ने 3-0 से जीती थी. मौजूदा फॉर्म और रिकॉर्ड के लिहाज से वनडे सीरीज में भी टीम इंडिया ही जीत की दावेदार है. विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम विश्व कप के बाद पहला वनडे मैच खेल रही है. विश्व कप में भारत की सबसे बड़ी कमजोरी नंबर-4 की बल्लेबाजी रही थी. इस कारण जब भारत-विंडीज वनडे सीरीज शुरू होगी तो भारतीय टीम के नंबर-4 पर भी नजर रहेगी.

भारतीय टीम में नंबर-4 की बल्लेबाजी चार-पांच साल से कमजोरी रही है. विश्व कप-2015 में अजिंक्य रहाणे नंबर-4 पर खेलते थे. वे ज्यादा कामयाब नहीं रहे और इसके बाद से ही इस नंबर के लिए जो प्रयोग शुरू हुआ, वह हाल ही में खेले गए विश्व कप तक में जारी रहा. इस साल के आईसीसी विश्व कप में भारत ने कुल 10 मैच खेले, जिनमें उसने नंबर-4 पर चार बल्लेबाजों को उतारा. लेकिन कोई भी बल्लेबाज उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा.

भारत ने इंग्लैंड और वेल्स में हुए विश्व कप में सबसे पहले केएल राहुल को नंबर-4 पर आजमाया. हालांकि, वे टीम में तीसरे ओपनर के तौर पर गए थे. पहले मैच में राहुल नंबर-4 पर खेले. फिर शिखर धवन को चोट लगने के कारण उन्हें ओपनिंग का जिम्मा सौंप दिया गया. राहुल की जगह विजय शंकर नंबर-4 के खेवनहार बने, लेकिन नाकाम रहे. इस बी दो मैचों में हार्दिक पांड्या को भी नंबर-4 पर उतार दिया गया. आखिर के चार मैचों में ऋषभ पंत नंबर-4 पर खेले, पर भी उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे.

अब बात भारत और विंडीज के बीच होने वाली वनडे सीरीज की. इस सीरीज के लिए भारत की टीम में जिन बल्लेबाजों को चुना गया है, उनमें से कम से कम चार बल्लेबाजों को नंबर-4 पर खिलाया जा सकता है. पहले दावेदार तो ऋषभ पंत ही हैं. केएल राहुल, श्रेयस अय्यर और मनीष पांडे भी दावेदार हैं.

टीम इंडिया ने अभी यह साफ नहीं किया है कि इन चारों में नंबर-4 पर कौन खेलेगा. विराट कोहली से लेकर रोहित शर्मा तक ऋषभ पंत की खूब तारीफ कर रहे हैं. पंत विश्व कप के बाद विंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज में भी नंबर-4 पर खेल चुके हैं. वहीं, केएल राहुल विश्व कप में धवन के चोटिल होने से पहले नंबर-4 के लिए भारत की पहली पसंद थे.

श्रेयस अय्यर को भविष्य का खिलाड़ी कहा जा रहा है. वे ऐसे खिलाड़ी हैं, जो सिंगल-डबल खेलने के साथ बड़े शॉट भी खेल सकते हैं. जबकि, मनीष पांडे को नंबर-4 पर पहले ही आजमाया जा चुका है. वे इस नंबर पर शतक भी लगा चुके हैं. ऐसे में भारत के पास विकल्प तो कई हैं. अब देखना यह है कि टीम प्रबंधन किस खिलाड़ी पर और कब तक भरोसा करता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help