बिना बुलाए ED के दफ्तर जाएंगे शरद पवार

publiclivenews.in [edited by Pragya Simoniya]
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष शरद पवार के प्रवर्तन निदेशालय ऑफिस जाने को लेकर आज राजनीतिक गलियारों में काफी गहमा-गहमी है. मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पवार के पेश होने के दौरान पर एनसीपी कार्यकर्ता कुछ गड़बड़ी न करें इसको मद्देनजर मुंबई पुलिस ने 7 थाना इलाकों में धारा 144 लगा दी है. पुलिस ने पवार से ईडी ऑफिस न जाने की अपील की है. उधर, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि सरकार द्वारा निशाना बनाए जाने वाले शरद पवार विपक्ष के नए नेता हैं. महाराष्ट्र में चुनाव से एक महीना पहले इस तरह की कार्रवाई राजनीतिक अवसरवाद की पुनरावृत्ति है.

मुंबई में एनसीपी कार्यकर्ताओं के हंगामे पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि सरकार को यह देखना चाहिए कि क्या हो रहा है? ईडी को इस मामले पर सरकार के साथ चर्चा करनी चाहिए थी. पवार जी एक बड़े नेता हैं, उनके समर्थक पूरे राज्य में मौजूद हैं तो निश्चित रूप से कुछ प्रतिक्रिया तो जरूर होगी.

दरअसल, शरद पवार राजीनीति के मंझे हुए खिलाड़ी हैं. वह चक्रव्यूह को रचना और भेदना दोनों जानते हैं. गेम प्लान बनाने में उनकी महारत है. ज़ी न्यूज़ आपको शरद पवार के गेमप्लान और ईडी के जवाबी गेमप्लान की जानकारी देने जा रहा है.

#पवार का गेम प्लान-
पहला- सामने से जाकर ये दिखाने की कोशिश करना कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है, इसलिए वो खुद ही चलकर ईडी के समक्ष पेश होने आए हैं. (राजनीतिक फायदा उठाना)

दूसरा- पहले ही चले जाने से शरद पवार आने वाले दिनों में चुनाव कैंपन के बीच संभावित किसी भी तरह की परेशानी से बच सकते हैं. (इससे ईडी पर दबाव होगा कि जब तक पूरी तैयारी ना हो शरद पवार पर हाथ ना डाला जाए)

तीसरा- शरद पवार अपनी इस लड़ाई को दिल्ली बनाम महाराष्ट्र की शक्ल देना चाहते हैं, जिससे यह दिखाया जा सके कि दिल्ली में बैठे लोग महाराष्ट्र के बड़े नेता को दबाने की कोशिश कर रहे हैं. (पवार खुद को विक्टिम की तरह से पेंश करना चाहते हैं)

वहीं, ईडी के सूत्र बताते हैं कि पवार के खुद-ब-खुद पेश होने से वे लोग हैरान हैं. मगर प्रवर्तन निदेशालय एनसीपी चीफ पवार के इस गेमप्लान के जवाब में अपना गेम प्लान तैयार कर लिया है.

#ईडी का प्लान-

पहला- ईडी शरद पवार से आज (27 सितंबर) कोई पूछताछ नहीं करेगी. ज्यादा से ज्यादा महज कागजी खानापूर्ति की जाएगी.

दूसरा- शरद पवार से पूछताछ करने के पहले ईडी उनसे जुड़े सारे सबूतों को जुटा लेना चाहती है. सारे पेपर वर्क पूरे किए जाएंगे. शरद पवार से क्या सवाल किए जाएं, इसकी भी पूरी लिस्ट तैयार की जायेगी. मतलब तैयारी इस लेबल की होगी कि शरद पवार को बचने को काई मौका किसी भी तरह से ना मिले.

क्या सबसे बुरे दौर से गुजर रहे हैं शरद पवार? दाऊद से रिश्ते के आरोपों पर भी नहीं हुआ था बड़ा नुकसान

तीसरा- ईडी अब पवार को 15-25 अक्टूबर के बीच में बुलाने की तैयारी कर रही है, जिससे उसकी तैयारी पूरी हो जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help