Cyclone Amphan: पश्चिम बंगाल को 1000 करोड़ रुपए की सहायता देगी केंद्र सरकार- PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) आज यानी शुक्रवार को चक्रवात अम्फान (Cyclone Amphan) से प्रभावित पश्चिम बंगाल और ओडिशा का दौरा कर रहे हैं. इस भयंकर तूफान ने पश्चिम बंगाल में अब तक 80 लोगों की जान ले ली और करोड़ों रुपए का नुकसान कर दिया है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि Cyclone Amphan के मद्देनजर पश्चिम बंगाल की तत्काल सहायता के लिए केंद्र सरकार की तरफ से 1000 करोड़ रुपए दिए जाएंगे. साथ ही मरने वाले लोगों के परिजनों को 2 लाख रुपए और गंभीर रूप से घायल लोगों की 50 हजार रुपए की मदद भी केंद्र अपनी तरफ से देगा.

पीएम मोदी ने CM ममता बनर्जी के साथ Cyclone Amphan से प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया. इस दौरान उनके साथ राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी मौजूद रहे.

पीएम मोदी कोलकाता एयरपोर्ट पहुंच गए हैं, जहां पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने पीएम मोदी का एयरपोर्ट पर स्वागत किया. पीएम यहां से Cyclone Amphan से प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे.

इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने कहा था कि चक्रवाती तूफान अम्फान की वजह से राज्य में अबतक 76 लोगों की मौत हो चुकी है. मैंने ऐसी आपदा पहले कभी नहीं देखी थी. मैं प्रधानमंत्री से राज्य का दौरा करने और स्थिति का जायजा लेने का अनुरोध करती हूं.

मालूम हो कि कोरोनावायरस के चलते देश में लागू लॉकडाउन को 57 दिन हो चुके हैं. इस बीच पीएम मोदी दिल्ली में ही रहे हैं. इन 57 दिनों में उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही देश के अंदर और अंतरराष्ट्रीय बैठकों में हिस्सा लिया. हम आपको बताते हैं कि पीएम मोदी ने इन 57 दिनों में दिल्ली में रहते हुए किन-किन कार्यक्रमों से जुड़े.

मुख्यमंत्रियों के साथ हुईं 5 बैठकें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था. इससे पहले 20 मार्च को उन्होंने देश के सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग की थी.

पीएम मोदी अबतक मुख्यमंत्रियों के साथ कुल पांच बार मीटिंग कर चुके हैं. पहली मीटिंग 20 मार्च को, दूसरी 2 अप्रैल को, तीसरी 11 अप्रैल को, चौथी 27 अप्रैल को और पांचवीं 11 मई को हुई थी.

प्रधानमंत्री का राष्ट्र के नाम संबोधन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस संकट को देखते हुए 24 मार्च को पहली बार लॉकडाउन का ऐलान किया था. पीएम मोदी इस दौरान तीन बार राष्ट्र को संबोधित भी कर चुके हैं. उन्होंने 24 मार्च को, 14 अप्रैल को और फिर 12 मई को राष्ट्र को संबोधित किया.

सरपंचों के साथ बातचीत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंचायती राज दिवस के अवसर पर 24 अप्रैल को देशभर के सरपंचों से बात की थी. पीएम मोदी ने इस बातचीत में सरपंचों से उनके गांव में कोरोना को रोकने के लिए हो रहे इंतजामों पर फीडबैक लिया था.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अंतरराष्ट्रीय बैठकें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 मार्च को सार्क देशों के प्रतनिधियों से भी बातचीत की थी. पीएम मोदी ने इस मीटिंग में सार्क के लिए इमर्जेंसी फंड बनाने का प्रस्ताव देते हुए 1 करोड़ डॉलर देने की घोषणा की थी.

इसके अलावा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 4 मई को एनआईसी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुटनिरपेक्ष आंदोलन (NAM) संपर्क समूह के ऑनलाइन शिखर सम्मेलन में भाग लिया. पीएम मोदी ने इस दौरान पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि दुनिया आज कोविड-19 नामक गंभीर महामारी से लड़ रही है, लेकिन कुछ लोग आतंकवाद, फेक न्यूज और छेड़छाड़ किए गए वीडियो जैसे घातक वायरस फैलाने में लगे हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help