उन्नाव केस: घटनास्थल से पुलिस को मिला अहम सुराग

उन्नाव: उत्तर प्रदेश के उन्नाव में दलित लड़कियों की मौत का मामला तूल पकड़ते जा रहा है. बुधवार को असोहा के खेत में तीन दलित लड़कियां संदिग्ध हालात में मिली थीं. इनमें दो की मौत हो चुकी है, जबकि एक जिंदगी और मौत से जंग लड़ रही है. उसे कानपुर के रीजेंसी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. भीम आर्मी से लेकर कांग्रेस ने बच्ची को एयरलिफ्ट करने की मांग की है. एसपी आनंद कुलकर्णी ने घटनास्थल का निरीक्षण किया और आसपास के ग्रामीणों से जानकारी ली. उन्होंने बताया घटनास्थल पर काफी झाग पड़ा हुआ पाया गया है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार है.

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने ट्वीट करके मांग की है कि बच्ची को दिल्ली एम्स ले जाया. उन्होंने ट्वीट किया, ”उन्नाव केस की एकमात्र गवाह बच्ची का बेहतर इलाज व उसकी सुरक्षा सबसे जरूरी है. बच्ची को तत्काल एयर एंबुलेंस से AIIMS दिल्ली लाया जाए. उत्तरप्रदेश सरकार का अपराधियों को संरक्षण व अपराधियों के मामले में सरकार की कार्यशैली को देश हाथरस कांड में देख चुका है.”

वहीं समाजवादी पार्टी ने ट्वीट करके बेटी को न्याय दिलाने की मांग की है. समाजवादी पार्टी ने कहा, ”बेटियों के लिए काल बन चुके भाजपा शासित यूपी में सत्ता संरक्षित नृशंस अत्याचार की एक और विचलित कर देने वाली घटना का केंद्र बना उन्नाव! जंगल में पेड़ से बांध कर दो दलित लड़कियों की हत्या, एक अति गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती, अत्यन्त दुखद! दरिंदों को कठोरतम सजा दिला हो न्याय.”

वहीं कांग्रेस नेता जिग्नेश मेवाणी ने भी बच्ची को बेहतर इलाज की वकालत की है. जिग्नेश मेवाणी ने कहा, ”उत्तर प्रदेश के सभी लोगों से मेरी अपील है की जब तक उन्नाव की दुर्घटना की पीड़ित बहनों के आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता, तब तक उनकी लाश को स्वीकार न करें, न्याय के लिए दबाव बनाएं, एक बहन की अच्छे से अच्छे अस्पताल में चिकित्सा की जाए.’

वहीं, कांग्रेस नेता उदित राज ने कहा, ”उन्नाव में दो दलित बच्चियां मृत पाई गरी है, तीसरी गंभीर घायल हैं, तुरंत एयरलिफ्ट करके एम्स, दिल्ली में इलाज किया.”

घटना की जानकारी मिलते ही देर रात एडीजी जोन एसएन साबत और आईजी लक्ष्मी सिंह ने घटनास्थल का लिया जायजा. एडीजी और आईजी ने परिजनों से बात की और मामले की जानकारी ली. वहीं पुलिस आलाधिकारियों ने पुलिसकर्मियों को आवश्यक निर्देश दिए. देर रात डीएम रविंद्र कुमार ने भी परिजनों से मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाया.

पुलिस को पॉइजनिंग की आशंका
एसपी आनन्द कुलकर्णी ने घटनास्थल का निरीक्षण किया और आसपास के ग्रामीणों से जानकारी ली. एसपी ने बयान देते हुए बताया की घटना स्थल पर काफी झाग पड़ा हुआ पाया गया है, प्राथमिक तौर पर पॉइजनिंग के सिम्टम्स हैं, घटना को रिकंस्ट्रेक्ट करके और बयानों से साक्ष्यों को एकत्रित किया जा रहा है. एसपी ने बताया कि सारी पूछताछ प्राइमरी स्टेज पर है. एसपी ने बताया कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में भी काफी कुछ चीजें क्लियर हो जाएंगी. 6 टीमें बनाई गई हैं और मामले की तफ्तीश की जा रही है.

क्या था मामला
असोहा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत पाठकपुर के मजरे बबुरहा में कल लगभग दोपहर बाद 3:00 बजे के करीब कोमल पुत्री संतोष पासी उम्र 16 वर्ष, काजल पुत्री सूरजपाल पासी उम्र लगभग 13 वर्ष, रोशनी पुत्री सूर्य बली उम्र लगभग 17 वर्ष बबुरहा नाला के पास खेत में पशुओं के लिए हरा चारा लेने गई थीं, लेकिन देर शाम तक घर नहीं लौटीं. जिसके बाद परिजन उन्हें खोजने निकले. परिजनों के मुताबिक खेत में तीनों लड़कियां कपड़े से बंधी मरणासन्न हालत में मिली थीं. तीनों किशोरियों को परिजनों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र असोहा ले गए. जहां पर डॉक्टरों ने कोमल और काजल को मृत घोषित कर दिया. वहीं रोशनी को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां उसकी हालत गंभीर देखते हुए डॉक्टरों ने कानपुर के हैलट अस्पताल के लिए रेफर किया गया. वहां भी हालत में सुधार न होने पर कानपुर के एक निजी अस्पताल में शिफ्ट कराया गया है. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help