आईपीएल में कप्तानों की फिटनेस को लेकर संशय में है ये तीन टीमें  Public Live

0
21

आईपीएल में कप्तानों की फिटनेस को लेकर संशय में है ये तीन टीमें 

PublicLive.co.in

मुम्बई । 22 मार्च से शुरु हो रहे आईपीएल के 17 वें सत्र के लिए जहां अधिकतर टीमें घोषित हो गयी हैं। वहीं तीन टीमें अभी तक कप्तान तय नहीं कर पायी हैं। इससे इनके अंदर संशय की स्थिति है। इनमें लखनऊ सुपरजायंट्स, कोलकाता नाइटराइडर्स और दिल्ली कैपिटल्स जैसी टीमें हैं। कोलकाता नाइटराइडर्स के श्रेयस अय्यर और दिल्ली कैपिटल्स के ऋषभ पंत बतौर कप्तान अपनी टीम में वापसी करने वाले हैं। श्रेयस और ऋषभ दोनों ही पिछले साल चोट के कारण आईपीएल में नहीं खेल पाए थे। इस बार दोनों ही खिलाड़ी फिट हैं पर इनकी फिटनेस को लेकर अभी भी संदेह व्यक्त किया जा रहा है।  अय्यर का आईपीएल 2024 में खेलना तय है पर रणजी ट्रॉफी के फाइनल में अय्यर की पीठ में जकड़न आ गयी थी। इस कारण उनके फील्डिंग नहीं करने से उनकी फिटनेस पर कई सवाल उठे हैं। अय्यर ने मैच के आखिरी दो दिन फील्डिंग नहीं की. बताया जा रहा है कि वे पीठ दर्द से परेशान थे, ऐसे में टीम प्रबंधन अय्यर को शुरुआती मैचों में आराम देकर नीतीश राणा को इन मैचों में कप्तानी दे सकता है। 

वहीं लखनऊ सुपरजायंट्स भी कप्तान केएल राहुल की फिटनेस से परेशान है। राहुल चोट के कारण भारत-इंग्लैंड सीरीज से भी बाहर रहे थे। एनसीए में इलाज कराने के बाद वे टीम इंडिया में लौटे जरूर, पर चोट उभरने के कारण मैच नहीं खेल पाए। इसके बाद उन्हें फिर से इलाज कराना पड़ा। उनकी फिटनेस पर हाल के दिनों में कोई नया बयान नहीं आया है। लखनऊ सुपरजायंट्स मैनेजमेंट राहुल की चोट पर नजर रखे हुए है। शायद वह प्लान भी तैयार कर रहा हो कि अगर केएल चोट के कारण कुछ मैच नहीं खेल पाए तो उनकी जगह कौन कप्तानी करेगा।.

वहीं दिल्ली कैपिटल्स के लिए ऋषभ का फिट होना बड़ी खुशखबरी है। उनकी गैरमौजूदगी में आईपीएल 2023 में डेविड वॉर्नर ने दिल्ली कैपिटल्स की कप्तानी की थी। अब जबकि ऋषभ फिट हो गए हैं तो उन्हें वापस कप्तानी सौंपी जा सकती है पर ये एकदम से संभव नहीं है क्योंकि वह सवा  साल से अधिक समय बाद वापसी कर रहे हैं। ऐसे में उनपर एकदम से अधिक बोझ नहीं डाला जा सकता है। 

Previous articleप्रदेश में ई ऑटो रिक्शा की ड्राइविंग सीट संभालेंगी महिलाएं  Public Live
Next articleआचार संहिता लगने से ठीक पहले, सरकार का साढ़े सात लाख शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों को तोहफा Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।