आगरा की रुई मंडी में आरओबी को मंजूरी   Public Live

0
21

आगरा की रुई मंडी में आरओबी को मंजूरी  

PublicLive.co.in

आगरा । यूपी के आगरा की रुई की मंडी में आरओबी को मंजूरी मिल गयी है। यहां भूमि पूजन कर जनप्रतिनिधियों ने श्रेय ले लिया था। 3 साल बीतने पर इसके लिए एक ईंट तक नहीं रखी जा सकी। 125 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले आरओबी का निर्माण लटक गया। इससे लोगों की परेशानी बढ़ गई। रुई की मंडी पर आरओबी न होने पर पूरे दिन जाम के हालात रहते हैं। कई सालों से आरओबी बनाने की मांग की जा रही थी। रुई की मंडी के फाटक संख्या 75, 77 और 496 को जोड़ते हुए नगला छऊआ तक आरओबी के लिए 125 करोड़ रुपये मंजूर हो गए हैं। अगस्त 2021 में इसके निर्माण के लिए भूमिपूजन कर शिलान्यास भी कर दिया गया। इसके बाद डिजाइन तय नहीं हो पाने से निर्माण कार्य लटक गया। हालत ये है कि 2024 आ गया लेकिन आरओबी बनने की स्थिति स्पष्ट नहीं है। 

आगरा फोर्ट, ईदगाह से बयाना की ओर ट्रेन जाने पर रुई की मंडी पर फाटक बंद कर दिए जाते हैं। इससे जाम की स्थिति रहती है। स्कूली बच्चे, मरीज समेत अन्य लोग परेशान होते हैं। रुई की मंडी पर आरओबी बनने से अर्जुन नगर, अजीत नगर, ख्वासपुरा, रुई की मंडी, नरीपुरा, धनौली, मलपुरा, जगनेर रोड, ईदगाह के लोगों समेत 5 लाख को सुविधा मिलती। रेलवे प्रशासन ने आरओबी बनाने के लिए तीन बार डिजाइन बदली। इसके बाद भी मुख्यालय ने डिजाइन को मंजूरी नहीं दी है। ऐसे में एक बार फिर क्षेत्र का सर्वे कर आरओबी का नया डिजाइन तैयार किया गया है। रेलवे वाणिज्य प्रबंधक प्रशस्ति श्रीवास्तव ने बताया कि आरओबी के लिए सर्वे कर नई डिजाइन बनाई गई है। इसकी मंजूरी के लिए मुख्यालय भेजा गया है। अगले महीने तक ये मंजूर होने की उम्मीद है इसके बाद रेलवे निर्माण शुरू करा देगा।

Previous articleतांबे की कीमत 11 महीने के उच्चतम स्तर पर  Public Live
Next articleबाबा महाकाल के दर्शन करने पहुंचे हैदराबाद के विधायक टी राजा सिंह, CAA और NRC पर कही ये बात Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।