आरबीआई की सख्ती के बाद कंपनी के शेयर 50 फीसदी टूटे Public Live

0
18

आरबीआई की सख्ती के बाद कंपनी के शेयर 50 फीसदी टूटे

PublicLive.co.in

पेटीएम पेमेंट्स बैंक के खिलाफ आरबीआई की कार्रवाई के बाद से म्यूचुअल फंडों ने इसकी मूल कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस में 26 फीसदी हिस्सा बेच दिया है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, जनवरी में म्यूचुअल फंडों के पास पेटीएम के 4.45 करोड़ शेयर थे। फरवरी अंत में ये 26 फीसदी घटकर 3.28 करोड़ रह गए।

कुल हिस्सेदारी का मूल्य मौजूदा भाव पर 1,212 करोड़ रुपये है। पेटीएम के शेयर का भाव आरबीआई की सख्ती की वजह से फरवरी में गिरकर लगभग आधा रह गया। हालांकि, सोमवार को कंपनी का शेयर 5 फीसदी बढ़कर 389.40 रुपये के भाव पर बंद हुआ। 

जी एंटरटेनमेंट में भी घटाई हिस्सेदारी

म्यूचुअल फंडों ने जी एंटरटेनमेंट में भी अपना निवेश घटाया है। इस शेयर में फंड हाउसों का निवेश 71 लाख शेयर तक घट गया है। सुंदरम म्यूचुअल फंड व फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने भी जी एंटरटेनमेंट में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच दी है। कंपनी पर भी हाल में नियामकीय कार्रवाई हुई थी, जिससे शेयरों पर दबाव दिखा।

Previous articleउप्र से इंदौर आकर किया रेप, युवती के वीडियो भी बनाए, हिंदूवादी संगठनों ने पकड़ा Public Live
Next articleक्या स्पाइसजेट के CMD को मिलेगी दिवालिया एयरलाइन गो फर्स्ट Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।