इस मंदिर में विराजमान मूर्ति को देखने मात्र से पूरी हो जाती है हर इच्छा, भरत ने की थी स्थापित Public Live

0
12

इस मंदिर में विराजमान मूर्ति को देखने मात्र से पूरी हो जाती है हर इच्छा, भरत ने की थी स्थापित

PublicLive.co.in

उत्तराखंड में स्थित योग नगरी ऋषिकेश एक पावन तीर्थ स्थल है. हर साल हजारों की संख्या में लोग यहां मंदिरों के दर्शन करने आते हैं. यहां कई सारे प्राचीन व मान्यता प्राप्त मंदिर स्थापित हैं. हर मंदिर का अपना इतिहास, अपना महत्व व अपनी विशेषता है. इन सभी प्राचीन व मान्यता प्राप्त मंदिरों में से एक है, ऋषिकेश के मेन बाजार में भरत मंदिर के पास स्थापित प्राचीन मां भद्रकाली मंदिर.

धर्मानंद शास्त्री बताते हैं कि यह मंदिर ऋषिकेश के प्राचीन मंदिरों में से एक है, जिसका निर्माण आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा करवाया गया था. इस मंदिर की एक कथा काफी प्रचलित है जोकि स्कंद पुराण के केदार खंड में वर्णित है. रैभ्य मुनि की घोर तपस्या से प्रसन्न होकर जब भगवान नारायण ने उन्हें दर्शन दिए थे, तब भगवान नारायण ने कहा कि वह हृषीकेश नाम से यहां विराजमान होंगे. तब उन्होंने यह भी कहा था कि त्रेता युग में दशरथ पुत्र भरत उनकी पुनः स्थापना करेंगे, इसीलिए त्रेता युग में भगवान भरत ने नारायण का पूजन कर उनकी पुनः स्थापना की.

भरत ने की थी मूर्ति स्थापित

पुजारी धर्मानंद आगे बताते हैं कि त्रेता युग में जब भरत ने भगवान नारायण की पुनः स्थापना और पूजन किया, तब उन्होंने यहां मां माहेश्वरी की मूर्ति की भी स्थापना की. भरत मंदिर के पास में स्थित मां भद्राकाली के मंदिर में वो मूर्ति स्थापित है. जिसके बाद आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा इस मंदिर का निर्माण कराया गया और आज यह मंदिर मां भद्रकाली के नाम से प्रसिद्ध है. मान्यता है कि मूर्ति के दर्शन मात्र से आपकी हर मनोकामना पूरी हो जाती है. अगर आप ऋषिकेश घूमने आए हुए हैं या फिर आने की सोच रहे हैं, तो मेन बाजार में स्थित इस मंदिर के दर्शन जरूर करें. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस मंदिर के कपाट प्रातः 6 बजे खुल जाते हैं और रात में 9 बजे तक यह मंदिर भक्तों के लिए खुला रहता है.

.

 

Previous articleमौनी अमावस्या कब है? इस दिन करें ये खास उपाय, पितृदोष से मिलेगी मुक्ति! Public Live
Next article बिहार के कई कांग्रेस विधायक  हैदराबाद पहुंचे Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।