उधार न चुकाने पर जिगरी दोस्त को उतारा मौत के घाट Public Live

0
19

उधार न चुकाने पर जिगरी दोस्त को उतारा मौत के घाट

PublicLive.co.in

पैसा क्या कुछ नहीं कराता है। ये रिश्ते भी बिगाड़ता है और हत्या तक करवा देता है। रायपुर के धरसींवा में पांच हजार रुपये नहीं लौटाने पर दोस्त ही जानी दुश्मन बन गया और पत्थर से सिर कुचलकर हत्या कर दी। आरोपित नंदू यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

गुरुवार को धरसींवा पुलिस को सूचना मिली कि सिलतरा के स्टील फैक्ट्री के पास सड़क किनारे झाड़ियों में एक युवक का शव पड़ा हुआ है। पुलिस मौके पर पहुंची तो शव के पास ही खून से सना हुआ पत्थर भी मिला। इसके बाद पुलिस ने आसपास पूछताछ की और शव की पहचान कराई। मृतक की पहचान मुन्नी लाल सिंह (35) के रूप में हुई। वह यहीं स्थानीय फैक्ट्री में काम करता था और पास ही एक कमरे में किराए से रहता था।

पुलिस उसके घर पहुंची तो वहां कोई नहीं मिला। उसका परिवार मध्य प्रदेश के शहडोल में रहता है। पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि आखिरी बार मुन्नी लाल को नंदू यादव के साथ देखा गया था। दोनों के कमरे अगल-बगल ही हैं और दोनों शहडोल के ही रहने वाले हैं। पुलिस ने संदेह के आधार पर नंदू को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पहले तो वह गुमराह करता रहा, फिर हत्या की बात कबूल ली।

साथ में बैठकर पी शराब फिर कर दी हत्या

आरोपित नंदू ने पुलिस को बताया कि मुन्नी लाल सिंह ने उससे कुछ महीने पहले पांच हजार रुपये उधार लिए थे। जब उसे जरूरत पड़ी तो उसने रुपये वापस मांगे, लेकिन मुन्नी उसे लंबे समय से नहीं लौटा रहा था। इसके चलते उन दोनों के बीच मनमुटाव चल रहा था। गुरुवार को दोनों ने साथ में शराब पी। इसके बाद फिर नशे में पैसे को लेकर झगड़ा हो गया। वे एक-दूसरे को गालियां देने लगे। इस दौरान नंदू ने गुस्से में मुन्नी को धक्का दिया। वह जमीन पर गिरा तो पास ही पड़े पत्थर से मुन्नी का सिर कुचल दिया। इसके बाद वहां से भाग निकला।

Previous articleडमी स्कूल चलाने वाले छत्तीसगढ़ के दो स्कूलों की मान्‍यता हुई रद Public Live
Next articleपाकिस्तान में पवित्र ग्रंथ के पन्ने जलाने के आरोप में महिला को आजीवन कारावास की सजा  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।