एक साल बाद भी महिला को नही मिला न्याय, सरकंडा पुलिस पर अपराधियों को संरक्षण देने का आरोप Public Live

0
20

एक साल बाद भी महिला को नही मिला न्याय, सरकंडा पुलिस पर अपराधियों को संरक्षण देने का आरोप

PublicLive.co.in

बिलासपुर । सरकंडा क्षेत्र में रहने वाली लगभग 50 वर्षीय महिला एक साल बाद भी न्याय के लिए भटक रही है, पुलिस का काम अपराधियों को पकडऩे का है पर सरकंडा पुलिस लगता है अपराधियों को संरक्षण दे रही है, तभी तो पैर में गंभीर चोट की कसक और पसली की 4 हड्डियां टूटने के दर्द से ये महिला आज भी कराह रही है,बता दें सरकंडा बंगाली पारा निवासी 50 वर्षीय महिला रेखा मिश्रा बीते साल दिनांक 5 मार्च 2023 को अपने घर के पास गोपाल मेडिकल स्टोर में दवाई लेने जा रही थी। इसी दौरान सीपत चौक से दो युवक लापरवाही पूर्वक तेज रफ्तार से बाइक चलाते हुए आए और रेखा मिश्र को ठोकर मार दी, जिससे उसके दाहिने पैर में गंभीर चोट और पसली की चार हड्डियां टूट गई। जिसकी जानकारी रेखा मिश्र के पुत्र विशाल मिश्रा ने सरकंडा थाना में दी और  एफआईआर दर्ज कराई, लेकिन पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की, इस मामले को एक साल बीत गए है पर अब तक कोई भी कार्यवाही नहीं नही हुई है। जानकारी के अनुसार प्रार्थी विशाल मिश्रा के कई बार मिन्नत करने पर भी इस घटना कि सीसीटीवी फुटेज नहीं निकाला और न ही बाइक सवार युवकों की खोजबीन कोशिश की गई।जिसके बाद प्रार्थी ने 2 बार एसपी ऑफिस में इसकी शिकायत की फिर भी इस पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया। प्रार्थी ने बताया की इस घटना में आरोपी युवकों को भगाने में सरकंडा बंगाली पारा छेत्र के ही कुछ युवकों का हाथ था, जिसकी सूचना प्रार्थी ने सरकंडा पुलिस को दी। इसके बावजूद पुलिस ने उन युवकों से सख्ती से पूछताछ नहीं की। और एक साल बीत जाने के बाद भी आरोपी युवक बेखौफ घूम रहे है। वही अब देखना होगा कि सरकंडा थाना प्रभारी और जिले के कप्तान इस मामले को कितना गंभीरता से लेते है।

 

Previous articleट्रक में भूसे के तरह भरे थे गोवंश, दो की मौत, हिन्दूवादी संगठन के सहयोग से पुलिस ने पकड़ा Public Live
Next articleजानिए, कैसा रहेगा आपका आज का दिन (21 मार्च 2024) Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।