एमपी के चर्चित हनीट्रैप मामले की सुनवाई सोमवार को, पूर्व सीएम कमलनाथ को मिल चुका है नोटिस Public Live

0
15

एमपी के चर्चित हनीट्रैप मामले की सुनवाई सोमवार को, पूर्व सीएम कमलनाथ को मिल चुका है नोटिस

PublicLive.co.in

इंदौर  ।  मध्य प्रदेश के चर्चित सेक्स स्कैंडल हनी ट्रैप मामले में सोमवार को इंदौर की स्पेशल कोर्ट में सुनवाई होगी।  इस मामले में गठित एसआईटी के चीफ हाल ही में आदर्श कटियार को बनाया गया हैै। वे कोर्ट में पेश होंगे और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को दिए गए नोटिस के बारे में कोर्ट को जानकारी देंगे पिछले दिनों कमलनाथ ने मीडिया के सामने कहा था कि उनके पास हनीट्रैप की सीडी और पैन ड्राइव है। इस पर  आरोपियों के वकील ने आपत्ति ली थी और कहा था कि सीडी और पैनड्राइव एसआईटी के पास होना चाहिए।

फिर वह कमलनाथ के पास कैसे पहुंची। मामला सामने आने के बाद जांच अधिकारी ने नाथ को नोटिस देकर पेनड्राइव व सीडी कार्यालय मेें जमा करने को कहा था। अब नाथ ने नोटिस के जवाब में क्या किया। एसआईटी चीफ इसके बारे मेें कोर्ट को स्थिति स्पष्ट करेेंगे।

इंदौर मेें हुआ था खुलासा

हनी ट्रैप मामले का खुलासा इंदौर मेें उस वक्त हुआ था,जब इंदौर नगर निगम के सिटी इंजीनियर हरभजन सिंह ने आरती दयाल, मोनिका यादव, श्वेता जैैन और श्वेता स्वप्निल जैन पर ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया था। इसके बाद पुलिस ने इंदौर और भोपाल से ड्रायवर सहित पांचों युवतियों को गिरफ्तार कर लिया था। बाद में पता चला था कि युवतियों ने कई राजनेता व नौकरशाहों के साथ हनी ट्रैप किया है। इंदौर में श्वेता जैन ने हरभजन सिंह से पैसे भी लिए थे।

Previous articleपीएम मोदी ने की प्रदेश की एसएचजी महिलाओं की प्रशंसा, सीएम योगी ने जताया आभार  Public Live
Next articleव्यापारिक परिवेश को निभाते हुए मानव सेवा बेहद सराहनीय: डिप्टी सीएम साव  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।