एमपी लोक सेवा आयोग के सामने छात्रों ने रखी ये मांग Public Live

0
12

एमपी लोक सेवा आयोग के सामने छात्रों ने रखी ये मांग

PublicLive.co.in

इंदौर। मध्य प्रदेश सेवा परीक्षा-2023 के प्रारंभिक दौर में सफल होने वाले अभ्यर्थियों के एक समूह ने मुख्य परीक्षा की तारीखों को आगे बढ़ाने की मांग करते हुए इंदौर में एमपीपीएससी मुख्यालय के बाहर आंदोलन कर रहे हैं। सभी छात्र सर्द रात में अपनी मांगो को लेकर सड़क पर सोने को मजबूर दिखे ताकि उन्हें तैयारी के लिए अधिक समय मिल सके। अभ्यर्थियों ने सोमवार दोपहर यहां मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (एमपीपीएससी) मुख्यालय के सामने अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू किया।प्रदर्शनकारियों ने एमपीपीएससी मुख्यालय के सामने सड़क पर अपना बिस्तर बिछा दिया। उन्हें अलाव जलाकर और रात के दौरान भक्ति गीत गाकर खुद को गर्म रखने की कोशिश करते देखा गया। प्रदर्शनकारियों ने एमपीपीएससी मुख्यालय के सामने सड़क पर अपना बिस्तर डालकर रात बिताई। छात्रों ने रात के समय अलाव जलाकर और भक्ति गीत गाकर खुद को गर्म रखने की कोशिश करते देखा गया।विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे आकाश पाठक ने कहा, “राज्य सेवा परीक्षा 2023 (एमपीपीएससी द्वारा आयोजित) के प्रारंभिक दौर का परिणाम 18 जनवरी को घोषित किया गया था। मुख्य परीक्षा 11 से 16 मार्च तक निर्धारित की गई है। एमपीपीएससी ने हमें मुख्य परीक्षा की तैयारी के लिए पर्याप्त समय नहीं दिया है।”

Previous articleभारत और कतर के बीच एलएनजी के आयात को लेकर समझौता Public Live
Next articleअमेरिका के कैलिफोर्निया में भीषण समुद्री तूफान से तबाही Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।