एलटीटीएस को महाराष्ट्र सरकार से 800 करोड़ की परियोजना मिली Public Live

0
24

एलटीटीएस को महाराष्ट्र सरकार से 800 करोड़ की परियोजना मिली

PublicLive.co.in

मुंबई । एलएंडटी टेक्नोलॉजी सर्विसेज को महाराष्ट्र सरकार से 10 करोड़ डॉलर (लगभग 800 करोड़ रुपये) की परियोजना ‎मिली है। कंपनी ने शुक्रवार को बयान में कहा कि प्रमुख अवसंरचना कंपनी एलएंडटी की इंजीनियरिंग सेवा इकाई ने राज्य के लिए उन्नत साइबर सुरक्षा समाधान प्रदान करने, साइबर खतरों के खिलाफ सार्वजनिक सुरक्षा बढ़ाने के लिए फोरेंसिक साझेदार के रूप में केपीएमजी एश्योरेंस एंड कंसल्टिंग सर्विसेज एलएलपी के साथ गठजोड़ किया है। कंपनी ने कहा कि यह अनुबंध भारत में अपनी तरह का पहला कार्यक्रम है, और एक इकाई के नीचे एकीकृत साइबर सुरक्षा और डिजिटल फोरेंसिक समाधानों के माध्यम से डिजिटल रूप से जुड़े स्मार्ट और सुरक्षित शहरों को विकसित करने की पहल का एक हिस्सा है। इसमें कहा गया कि परियोजना में एक परिष्कृत साइबर सुरक्षा प्रणाली को डिजाइन करना और एआई (कृत्रिम मेधा) और डिजिटल फोरेंसिक टूल का लाभ उठाकर साइबर अपराध की घटनाओं और जांच को संबोधित करने के लिए एक साइबर सुरक्षा और साइबर अपराध रोकथाम केंद्र की स्थापना करना शामिल है। कंपनी के एक व‎रिष्ठ अ‎धिकारी ने कहा ‎कि यह 25 से अधिक निर्देश केंद्र स्थापित करने के अपने अनुभव का लाभ उठाने और साइबर सुरक्षा की बढ़ती गंभीरता और बड़े समाज के लिए उन्नत डिजिटल सुरक्षा मंचों और उपकरणों में निवेश करने के महत्व को पहचानने का एक अवसर है।

Previous articleचुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू Public Live
Next articleसात चरणों में होंगे लोकसभा चुनाव, चार जून को आएंगे नतीजे Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।