एसपी की दरियादिली…चैंबर के बाहर आकर सुनी दिव्यांग फरियादी की फरियाद, खूब हो रही चर्चा Public Live

0
18

एसपी की दरियादिली…चैंबर के बाहर आकर सुनी दिव्यांग फरियादी की फरियाद, खूब हो रही चर्चा

PublicLive.co.in

राजगढ़  ।   मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले के पुलिस अधीक्षक धर्मराज मीणा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इसमें वे अपने चैंबर से बाहर निकलकर एक दिव्यांग फरियादी की अर्जी सुनते हुए नजर आ रहे हैं। सोशल मीडिया पर आमजन उनकी जमकर तारीफ व अलग-अलग प्रतिक्रिया देते हुए नजर आ रहे हैं। दरअसल, राजगढ़ जिले के छापीहेड़ा थाना क्षेत्र निवासी फरियादी अनिल कुमार जो की अपने दोनों पैर से दिव्यांग है। मंगलवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आयोजित जनसुनवाई में पहुंचे और कार्यालय में लगी कुर्सियों पर चढ़कर बैठ गए। ऐसे में अपने चैंबर में बैठकर आमजन की फरियाद सुन रहे एसपी धर्मराज मीणा अपने चैंबर से बाहर निकले और उक्त दिव्यांग फरियादी के समक्ष जाकर कुर्सी पर बैठ गए और उसकी फरियाद सुनी। उसे उचित निराकरण के लिए आश्वस्त करते हुए संबंधित थाना प्रभारी को वैधानिक कार्रवाई के निर्देश दिए। राजगढ़ एसपी के इस अंदाज का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है और आमजन अपनी अलग-अलग प्रतिक्रिया देते हुए नजर आ रहे हैं।

वहीं, वीडियो को लेकर राजगढ़ एसपी धर्मराज मीणा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पीड़ित दिव्यांग को शक था कि उसकी पत्नी उसे खाने में मिलाकर नींद की दवाएं दे रही है, जो उसके मना करने पर उसे भोजन में मिलाकर दी जाती है। जबकि डॉक्टर भी उससे मिले बिना उसकी पत्नी को दवाई उपलब्ध करा देते हैं। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश से बीते कुछ दिनों से अफसरशाही की नेगेटिव तस्वीरें निकलकर सामने आई हैं, जिसमें प्रदेश के मुखिया के द्वारा तुरंत एक्शन लेकर कार्रवाई भी की गई है। वहीं, मंगलवार को राजगढ़ एसपी की यह वीडियो अफसरशाही को पॉजिटिव-वे की तरफ ले जाता हुआ नजर आ रहा है, जिसकी चर्चा संपूर्ण जिले में की जा रही है।

Previous articleमोहन सरकार ने प्रदेश के निगम/मंडल की सभी नियुक्तियां खत्म की, नए अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनेंगे Public Live
Next articleजानिए, कैसा रहेगा आपका आज का दिन (14 फ़रवरी 2024) Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।