ओटीटी जलवा दिखा रहे सुनील शेट्टी Public Live

0
24

ओटीटी जलवा दिखा रहे सुनील शेट्टी

PublicLive.co.in

मुंबई । बालीवुड एक्टर सुनील शेटटी अपना जलवा ओटीटी पर भी दिखा रहे हैं। अपने दमदार अभिनय से सुनील शेट्टी ने अपनी अलग पहचान बनाई है। 90 के दशक में सुनील शेट्टी सिनेमाघरों में छाए रहते थे, लेकिन जिस स्टाडरम की उन्हें तलाश थी, वो स्टाडरम उन्हें मिल नहीं पाई। आज सुनील शेट्टी बॉक्स ऑफिस के बादशाह होते, अगर उनकी 33 फिल्में सिनेमाघरों में रिलीज हो गई होती, लेकिन किसी न किसी वजह से उनकी 33 फिल्में सिनेमाघरों तक पहुंच नहीं सकी। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इनमें से कुछ फिल्में टाइटल अनाउंसमेंट के बाद ही डिब्बाबंद हो गईं, तो कुछ फिल्मों के पोस्टर तक रिलीज हुए, लेकिन वो भी बाद गुमनाम हो गईं।कहा जाता है कि बजट की समस्या की वजह से सुनील शेट्टी की 33 फिल्में बन नहीं सकीं, कुछ फिल्मों की तो शूटिंग भी शुरू हुई थी, लेकिन फाइनेंसर न मिलने की वजह से उन फिल्मों की शूटिंग को बीच में ही रोकना पड़ गया था। तो चलिए, आपको सुनील शेट्टी की उन फिल्मों के बारे में बताते हैं, जो सिनेमाघरों तक पहुंच ही नहीं पाईं। इसमें सबसे पहला नाम आता है एक और फौलाद का जिसमें वह दिव्या भारती के साथ नजर आने वाले थे।

 दो कदम आगे में भी सुनील शेट्टी दिव्या भारती के साथ स्क्रीन शेयर करने वाले थे। वहीं, फिल्म जाहिल में वह रवीना टंडन के साथ नजर आने वाले थे, हम हैं आग में सुनील शेट्टी की जोड़ी सोमी अली के साथ बनी थी, अयुद्ध में सोनाली बेंद्रे के साथ वह स्क्रीन शेयर करने वाले थे, दि बॉडीगार्ड में वह श्रीदेवी के साथ पर्दे पर नजर आने वाले थे। कौरव में उनकी जोड़ी अक्षय कुमार के साथ बनी थी, लेकिन ये फिल्म भी बन नहीं पाई, हालांकि फिल्म मोहरा में इस जोड़ी ने खूब धमाल मचाया था। वहीं, रुस्तम में मनीषा कोइराला के साथ, चोरी मेरा काम में शिल्पा शेट्टी और सलमान खान के साथ, कर्मवीर में विनोद खन्ना के साथ सुनील शेट्टी नजर आने वाले थे। 

कैप्टन अर्जुन में सुनील की जोड़ी ममता कुलकर्णी के साथ, काला पानी में अजय देवगन और करिश्मा कपूर के साथ, कमिश्नर में शिल्पा शेट्टी के साथ, जुआ में मनीषा कोइराला के साथ, राधेश्याम सीता राम में ऐश्वर्या राय के साथ बनी थी। वहीं सुनील की जज्बा, मुक्ति,फेम, गुड नाईट, फांसी दि कैपिटल पनिशमेंट, मुंबई टैक्सी सर्विस, शोमैन, चाय गर्म, शूटर, शोला, चोर सिपाही और अखंड जैसी फिल्में भी सिनेमाघरों तक पहुंच नहीं पाईं। फिल्म पूरब की लैला पश्चिम का छैला में सुनील नम्रता शिरोडकर के साथ, हम पंछी एक डाल के में ऐश्वर्या राय के साथ, एक हिंदुस्तानी में रवीना टंडन के साथ, वंदे मातरम में संजय दत्त के साथ, गहराई में रवीना टंडन के साथ नजर आने वाले थे।

Previous articleफिल्‍म पटना शुक्ला का ट्रेलर जारी  Public Live
Next articleसिंगरौली जिले में 3.1 तीव्रता वाले भूकंप के झटके, घरों से बाहर निकले लोग Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।