कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में कई जगहों पर ED की छापेमारी Public Live

0
12

कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में कई जगहों पर ED की छापेमारी

PublicLive.co.in

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को मनी लॉन्ड्रिंग मामले के कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में कई जगहों पर छापेमारी की। ईडी ने बताया कि दोनों राज्यों में छापेमारी की कार्रवाई में 31 लाख रुपये की बेहिसाब नकदी जब्त की गई है।बता दें कि धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए), 2002 के प्रावधानों के तहत सूर्य नारायण रेड्डी और भरत रेड्डी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। ईडी ने बताया कि इस मामले में कर्नाटक के बेल्लारी में एफआईआर दर्ज कराया गया था और 10 फरवरी को तलाशी ली गई थी।जांच एजेंसी को तलाशी के दौरान ऐसे सबूत मिले हैं, जो दर्शाते हैं कि भरत रेड्डी ने कथित तौर पर विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कुछ महीनों में लगभग 42 करोड़ रुपये नकद जुटाए थे और उसका उपयोग गैरकानूनी लेनदेन के लिए किया गया था।जानकारी के अनुसार, ईडी की छापेमारी में आपत्तिजनक दस्तावेजों का नेटवर्क, व्यावसायिक रिकॉर्ड और अचल व चल संपत्तियों का विवरण मिला है। एजेंसी ने बताया कि इस दौरान 31 लाख रुपये की बेहिसाबी नकदी के साथ कई महत्वपूर्ण सबूत जब्त किए गए हैं, जिससे पता चलता है कि अवैध भुगतान के लिए नकदी जुटाने में भरत रेड्डी, उनके सहायक रत्ना बाबू और अन्य लोग शामिल हुए थे।

Previous articleGo First को खरीदने में रूचि दिखा रही है ये एयरलाइन, NCLT ने दिवाला प्रक्रिया की समय सीमा 60 दिन बढ़ाई Public Live
Next articleअबु धाबी के हिंदू मंदिर के लिए भारतीय राज्यों ने दिया योगदान Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।