कांग्रेस आणंद से अमित चावड़ा और अहमदाबाद पूर्व से हिम्मतसिंह पटेल को उम्मीदवार बना सकती है Public Live

0
20

कांग्रेस आणंद से अमित चावड़ा और अहमदाबाद पूर्व से हिम्मतसिंह पटेल को उम्मीदवार बना सकती है

PublicLive.co.in

अहमदाबाद| पूर्व केन्द्रीय मंत्री और गुजरात कांग्रेस के पूर्व प्रमुख भरतसिंह सोलंकी के चुनाव लड़ने से इंकार करने के बाद अब चर्चा है कि कांग्रेस आणंद लोकसभा सीट से आंकलाव से विधायक अमित चावड़ा को टिकट दे सकती है| जबकि अहमदाबाद पूर्व सीट से रोहन गुप्ता के इंकार के बाद कांग्रेस पूर्व विधायक हिम्मतसिंह पटेल को उम्मीदवार बना सकती है| हिम्मतसिंह पटेल शहर कांग्रेस के प्रमुख और पूर्व महापौर हैं| गुजरात में 26 लोकसभा सीटों में से कांग्रेस 24 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि भावनगर और भरुच सीट पर आम आदमी पार्टी (आप) के उम्मीदवार होंगे| गुजरात में कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन हुआ है| आप ने भावनगर और भरुच सीट पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है| जबकि कांग्रेस ने अब तक केवल 7 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा की है| जिसमें अहमदाबाद पूर्व सीट से रोहन गुप्ता ने चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया| वहीं आणंद लोकसभा सीट से भरतसिंह सोलंकी भी चुनाव लड़ने को तैयार नहीं है| इस बीच खबर है कि कांग्रेस विधायक अमित चावड़ा आणंद लोकसभा सीट से उम्मीदवार हो सकते हैं| आणंद सीट पर अमित चावड़ा का नाम करीब करीब तय हो चुका है और केवल घोषणा होना बाकी है| दरअसल आणंद में अपना वर्चस्व बरकरार रखने के लिए अमित चावड़ा चुनाव लड़ने को तैयार हुए हैं| आणंद सीट पर पहले से ईश्वरसिंह चावड़ा और माधवसिंह सोलंकी के समय से कांग्रेस का वर्चस्व रहा है| दूसरी ओर अहमदाबाद पूर्व लोकसभा सीट से कांग्रेस हिम्मतसिंह पटेल को उम्मीदवार बना सकती है| अहमदाबाद पूर्व सीट पर पहले रोहन गुप्ता और हिम्मतसिंह पटेल के नाम की चर्चा थी| जिसमें कांग्रेस ने रोहन गुप्ता को अहमदाबाद पूर्व सीट से उम्मीदवार घोषित किया था| लेकिन अपने पिता की खराब तबियत का हवाला देकर रोहन गुप्ता ने चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया| रोहन गुप्ता के हटने के बाद अब कांग्रेस हिम्मतसिंह पटेल को अहमदाबाद पूर्व सीट पर उतार सकती है| 

Previous article10 किलो मटन के लिए 2 दिन पड़ी रही महिला की लाश Public Live
Next articleरफा में सैन्य कार्रवाई करने की तैयारी में इस्राइल, अमेरिका चिंतित Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।