कांग्रेस लड़ा सकती है भूपेश बघेल को लोकसभा चुनाव, बैठक में हुआ प्रत्या‎‎शियों का चयन Public Live

0
13

कांग्रेस लड़ा सकती है भूपेश बघेल को लोकसभा चुनाव, बैठक में हुआ प्रत्या‎‎शियों का चयन

PublicLive.co.in

रायपुर । लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी की रायपुर में प्रत्याशी चयन को लेकर बैठक हुई। इसमें बताया जा रहा है ‎कि भूपेश बघेल को ‎फिर से चुनाव लड़ाने पर सहम‎ति बनी है। कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में प्रत्याशियों के नामों को लेकर प्रारंभिक चर्चा हुई। सूत्रों के हवाले से खबर है कि भूपेश बघेल को कांग्रेस पार्टी लोकसभा का चुनाव लड़ा सकती है। हालां‎‎कि यह भी कहा जा रहा है कि बैठक में भूपेश बघेल के राजनांदगांव लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने का प्रस्ताव भी है। बैठक में यह भी तय किया गया कि लोकसभा का चुनाव पुराने और अनुभवी नेता ही लड़ेंगे। फिलहाल कांग्रेस छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों को अपने पक्ष में करने के लिए लगातार बैठकें कर रही है। वहीं अनुभवी प्रत्याशियों के नामों को लेकर हुई चर्चा के तहत भूपेश बघेल को राजनांदगांव, ताम्रध्वज साहू को महासमुंद, कांकेर से मोहन मरकाम, जांजगीर से शिव कुमार डहरिया को चुनाव मैदान में उतारने को लेकर सहमति बनने की बात सामने आ रही है। 

यहां गौरतलब है ‎कि ताम्रध्वज साहू पूर्व गृह मंत्री हैं। चरण दास महंत वर्तमान में नेता प्रतिपक्ष हैं। वहीं टीएस सिंहदेव सहित कई पूर्व मंत्रियों को भी कांग्रेस लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी बना सकती है। कोरबा लोकसभा से पूर्व की भांति ही सांसद ज्योत्सना महंत और बस्तर से दीपक बैज को चुनाव लड़ाने का सुझाव मिला है। वरिष्ठ नेताओं के सुझाव के आधार पर इन नामों को आगे बढ़ाया जाएगा। हालांकि कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि ये अभी प्रारंभिक चर्चा है, अभी नामों पर और भी मंथन होगा। शीर्ष नेतृत्व ही आखिरी फैसला करेगा। सूत्रों के मुताबिक भूपेश बघेल को राजनांदगांव से चुनाव लड़ाने का प्रस्ताव पूर्व मंत्री मोहम्मद अकबर ने रखा है। वहीं रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग जैसी सीटों पर अभी एक राय नहीं बन पायी है। 

Previous article मेडिकल कालेजों में सीट के बदले बांड नीति को हो खत्म  Public Live
Next articleभारत-म्यांमार सीमा पर बाड़ लगाने के विरोध में उतरा जनजातीय संगठन Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।