किड्स कार्निवल में बच्चों को मोबाइल से दूर रखकर एक नए पारिवारिक महौल के लिये किड्स कार्निवाल का आयोजन  Public Live

0
17

किड्स कार्निवल में बच्चों को मोबाइल से दूर रखकर एक नए पारिवारिक महौल के लिये किड्स कार्निवाल का आयोजन 

PublicLive.co.in

बिलासपुर- किड्स कार्निवल में बच्चों को मोबाइल से दूर रखकर एक नए पारिवारिक महौल के लिये किड्स कार्निवाल का आयोजन किया गया।जहां खेल कूद डांस मस्ती म्यूजिक जादू, वह भी परिवार के साथ मिलकर। ऐसा माहौल किड्स कार्निवल में देखने को मिला।

मंगला चौक के उत्सव वाटिका में रविवार को किड्स कार्निवल का आयोजन किया गया, जहां फुड, फन और खेलकूद के तमाम अवसर मौजूद रहे। बिलासपुर लेडिस सर्किल 144 और बिलासपुर राउंड टेबल 283 द्वारा आयोजित कार्निवल में अलग-अलग स्टाल लगाए गए थे ,जहां मौज मस्ती खेल कूद के साथ ड्राइंग पेंटिंग सिखाए गए । वहीं छोटे बच्चों का मेकअप कर एक नया लुक देने ब्यूटीशियन लगी रही।आयोजकों ने बताया कि बिलासपुर में इस तरह का आयोजन पहली बार आयोजित हो रहा है। यहां डांस, म्यूजिक, सिंगिंग , ड्राइंग कंपटीशन के साथ लाइव वर्कशॉप का आयोजन किया गया।

मंगला चौक के उत्सव वाटिका में रविवार को किड्स कार्निवल का आयोजन किया गया, जहां फुड, फन और खेलकूद के 

इस मौके पर बच्चों के साथ पेरेंट्स भी मस्ती में डूबे रहे, यहां पूरा परिवार मिलकर इंजॉय करते नज़र आये , कार्निवाल में विशेष रूप से मौजूद पम्मी गुंबर जी ने बताया कि यहां बच्चों के लिए एक से बढ़कर एक कंपटीशन रखे गए हैं ,रूटीन काम से हट कर फैमिली के साथ मिलकर समय बिताने मौका मिला हैं, जिससे महिलाओं में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला।

आयोजको ने बताया कि कार्निवल से प्राप्त धनराशि को आदिवासी क्षेत्रों में क्लास रूम बनाने दान दिया जाता है,जिले में पिछले 6 साल से हर साल चार-चार क्लासरूम बनाए गये हैं ,ताकि आदिवासी क्षेत्र के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल सके,इसका श्रेय कार्निवल में शामिल सभी लोगो को जाता हैं। इस दौरान जादूगर को अपने बीच पाकर बच्चों में गजब का उत्साह देखने को मिला ,जब जादूगर ने अपनी छड़ी घूमाकर कभी फूल बना दिया तो कभी रुमाल और छड़ी से जब चॉकलेट निकला तो बच्चे टूट पड़े ।जादू देखकर मौजूद लोगों ने खूब इंजॉय किया। इस दौरान श्रद्धा खंडूजा ,अवी अजमानी, रेशम गंभीर, मीत गंभीर, कृतांशा गुंबर ,रोमी सलूजा ,सहित बड़ी संख्या में बच्चे एवं अभिभावक मौजूद रहे।

 

Previous articleराहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा 8 को   कांग्रेसजनों में भारी उत्साह Public Live
Next articleआध्यात्म व संस्कृति के बिना भारतीय साहित्य नहीं रच सकते- पाठक Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।