कैलारस की शुगरमिल को बंद किया जाएगा, किसानों का जो बकाया बचा हुआ है उन्हें दिलाया जाएगा Public Live

0
16

कैलारस की शुगरमिल को बंद किया जाएगा, किसानों का जो बकाया बचा हुआ है उन्हें दिलाया जाएगा

PublicLive.co.in

मुरैना ।   कैलारस की शुगरमिल को बंद किया जाएगा। किसनों का जो बकाया बचा हुआ है। उसे उन्हें दिलाया जाएगा। साथ ही शुगरमिल की जगह पर अन्य उद्योग शुरू किया जाएगा। यह बात मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव ने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कही। इसके साथ ही कृषि के क्षेत्र उद्योग लगाने की परियोजनाओं के लिए संभावना तलासी जाएगी। राजस्थान से पानी को लेकर जो एमओयू साइन हुआ है उससे मुरैना को लाभ होगा। मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव ने मुरैना में संभागस्तरीय समीक्षा बैठक की। बैठक में उनहेंने सभी विभागों के अफसरों को सरकार की योजनाओं को समय पर पूरा करने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि योजनाओं में गड़बड़ी न हो और सही हितग्राही तक उनका फायदा पहुंचे। बैठक के बाद मीडिया से चर्चा में उन्होंने केंद्रीय बजट को सर्वहितैषी और सर्व समावेशी बताया। साथ ही कहा कि बजट 2024-25, गरीब, महिला, युवा और किसान समेत सभी वर्गों का कल्याण करने वाला है।

मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव मुरैना पहुंच गए हैं। हेलीपेड विधानसभा अध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर ने उनकी आगवानी की। मुख्यमंत्री सबसे पहले कलेक्ट्रेट में संभागभर के अफसरों के साथ बैठक करेंगे। इसके बाद जनआभार यात्रा निकालते हुए कृषि उपज मंडी में पहुंचेंगे। मंडी परिसर में राज्य स्तरीय स्वरोजगार सम्मेलन का आयोजन होगा। मध्‍य प्रदेश के सात लाख से अध‍िक युवाओं को आज स्‍वरोजगार की सौगात मिलने जा रही है। मुख्यमंत्री डाॅ. मोहन यादव के मुख्‍य आति‍थ्‍य में आज मुरैना में राज्‍य स्‍तरीय रोजगार दिवस कार्यक्रम का आयोजन होगा। इस समारोह में मुख्यमंत्री स्वरोजगार के लिए युवाओं को 5151 करोड़, 18 लाख 90 हजार की ऋण राशि का वितरण करेंगे।रोजगार दिवस कार्यक्रम और सभा मुरैना कृषि उपज मंडी परिसर में आयोजित होगी। मुरैना की सभा से ही मुख्यमंत्री चार जिलों के अनूपपुर, बड़वानी, दमोह एवं छतरपुर के एक हितग्राहियों से भी सीधा संवाद भी करेंगे।

एमएसएमई सचिव एवं उद्योग आयुक्त पी नरहरि के अनुसार एक साथ सात लाख युवाओं को स्वरोजगार के लिए आर्थिक मदद दी जाएगी। सबसे अधिक 6 लाख 32 हजार 574 युवाओं को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 4510 करोड़ का ऋण वितरित किया जाएगा। इसके साथ ही राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के 13812 समूहों को 380 करोड़ 71 लाख रुपये का ऋण वितरण होगा। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना में 67 हजार 166 हितग्राहियों को 113 करोड़ 44 लाख रुपये, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन में 943 व्यक्तियों को 12 करोड़ 87 लाख से अधिक, 79 समूह को एक करोड़ 77 लाख तथा 689 समूहों को क्रेडिट लिंकेज में 13 करोड़ 47 लाख 91 हजार रुपये की वित्तीय सहायता दी जाएगी। मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव मुरैना में 4 घंटे 40 मिनट रहेंगे। सबसे पहले संभाग के अफसरों के साथ कलेक्टोरेट में बैठक लेंगे। मुरैना से ही ग्वालियर-अहमदाबाद फ्लाइट का वर्चुअल उद्घाटन करेंगे। दोपहर 2 बजे शहर में जन आभार यात्रा (रोड शो) निकालेंग। इसके बाद मंडी परिसर में आयोजित सभा में शामिल होंगे। पौने चार बजे सीएम मुरैना से रवाना होंगे।

इन योजनाओं में भी स्वरोजगार देंगे सीएम

प्रधानमंत्री सृजन कार्यक्रम में 905 को 56 करोड़ 60 लाख रुपये का ऋण दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना में 802 युवाओं को 54 करोड़ 44 लाख रुपये का ऋण वितरण होगा।

संत रविदास स्वरोजगार योजना में 62 को 2 करोड़ 41 लाख 36 हजार रुपये का ऋण मिलेगा।

डा. आंबेडकर आर्थिक कल्याण योजना में 65 को 13 लाख 35 हजार रुपये का ऋण बंटेगा।

सावित्री बाई फुले सहायता योजना में 18 युवाओं को 97 लाख 5 हजार रुपये का ऋण बंटेगा।

भगवान बिरसा मुंडा स्वरोजगार योजना में 61 को 2 करोड़ 12 लाख 4 हजार रुपये का ऋण मिलेगा।

टंट्या मामा आर्थिक कल्याण योजना में 93 को 43 लाख 73 हजार रुपये का लोन बंटेगा।

मुख्यमंत्री पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक उद्यम तथा स्वरोजगार योजना में 27 युवाओं को एक करोड़ 16 लाख 70 हजार। मुख्यमंत्री विमुक्त, घुमन्तु और अर्द्धघुमन्तु स्वरोजगार योजना में 9 लाेगों को 5.89 लाख का ऋण दिया जाएगा।

Previous articleपहले की सरकारों में किसान करते थे आत्महत्या, अब मिल रहा उपज का सही मूल्य-योगी Public Live
Next articleमहाराष्ट्र :फूड पॉइजनिंग के कारण 100 से अधिक छात्र बीमार Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।