खाने के बर्तन में फंसा 18 महीने के बच्चे का सिर…. Public Live

0
13

खाने के बर्तन में फंसा 18 महीने के बच्चे का सिर….

PublicLive.co.in

चेन्नई। चेन्नई में 18 महीने के मासूम बच्चे की जान उस समय खतरे में आ गई, जब खेल-खेल में उसका सिर खाना पकाने वाले बर्तन में फंस गया। बच्चा मदद के लिए जोर-जोर से चिल्लाने लगा। माता-पिता ने भी बर्तन सिर से निकालने की जमकर कोशिश की, लेकिन वह नाकामयाब रहे।

खेल-खेल में फंसा बच्चे का सिर

अग्निशमन और बचाव सेवा कर्मी रविवार रात को कड़ी मशक्कत के बाद बच्चे के सिर से बर्तन निकालने में कामयाब हुए। यह घटना पोरूर में हुई जहां फायर ब्रिगेड को शाम 6 बजे के आसपास एक इमरेजेंसी कॉल मिली। दरअसल, बच्चा अपने घर पर खेल रहा था और इस दौरान बच्चे ने बर्तन के अंदर झांकने की कोशिश की। तभी उसका सिर इसमें फंस गया। बच्चे की पहचान मंगला नगर के आनंद और कृतिका के बेटे क्रिथिगन के रूप में हुई है।

कड़ी मशक्कत के बाद भी नहीं निकला बर्तन

माता-पिता की कड़ी मशक्कत के बाद भी जब बच्चे की सिर से बर्तन नहीं निकला तो वे मदद के लिए अग्नि नियंत्रण कक्ष के पास पहुंचे। अग्निशमन और बचाव सेवा कर्मियों ने शुरू में बर्तन को काटने की कोशिश की लेकिन वह असफल रहे। फिर उन्होंने बच्चे के सिर से बर्तन को हटाने के लिए नारियल का तेल लगाया, लेकिन यह तरीका भी अप्रभावी साबित हुआ क्योंकि इससे बच्चे को दर्द होने लगा था।

सरौता का किया इस्तेमाल

बच्चे की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, बचाव दल ने अपने प्रयास जारी रखने से पहले पहले उसे शांत किया। एक फायरमैन ने लड़के के सिर को स्थिर रखा, जबकि अन्य ने बर्तन को सावधानीपूर्वक काटने के लिए काटने वाले सरौता का उपयोग किया। 30 मिनट के ऑपरेशन के बाद, अग्निशमन और बचाव सेवा कर्मी बच्चे को कोई नुकसान पहुंचाए बिना बर्तन को हटाने में कामयाब रहे।

Previous articleकंगना रनौत पर टिप्पणी के मामले पर कांग्रेस पर भड़कीं नवनीत राणा…. Public Live
Next articleउद्धव गुट के नेता के करीबी दिनेश बोभाटे पर ईडी ने कसा शिकंजा…. Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।