घर पर बोनसाई पौधा लगाने का कर रहे प्लान, जान लें 5 जरूरी बातें, वरना गलती पड़ सकती है भारी Public Live

0
26

घर पर बोनसाई पौधा लगाने का कर रहे प्लान, जान लें 5 जरूरी बातें, वरना गलती पड़ सकती है भारी

PublicLive.co.in

बहुत से लोग आजकल अपने घरों में अलग-अलग तरह के इनडोर और आउटडोर प्लांट्स लग रहे हैं, इनमें बोनसाई ट्री लगाने का प्रचलन भी काफी बढ़ गया है. बेशक बोनसाई ट्री दिखने में खूबसूरत और आकर्षक होते हैं, लेकिन वास्तु शास्त्र में इन्हें घर में नहीं लगाने की सलाह दी जाती है. वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर आप घर में बोनसाई ट्री लगाते हैं तो ये आपके बैड लक का कारण बन सकता है. हमने भोपाल निवासी ज्योतिषी एवं वास्तु सलाहकार पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा से बोनसाई ट्री के बारे में 5 मुख्य बातें जानी.

बोनसाई ट्री से जुड़ी 5 मुख्य बातें

1. लाता है नकारात्मकता

वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर आप अपने घर में बोनसाई ट्री लगाते हैं तो ये आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ा देगा और सकारात्मक ऊर्जा को बाहर कर देता है, इसलिए घर में बोनसाई ट्री नहीं लगाना चाहिए.

2. विकास में बाधा

वास्तु शास्त्र के अनुसार, अगर आप अपने घर में बोनसाई ट्री लगाते हैं तो यह आपके और घर के सदस्यों के करियर और सफलता में बाधा उत्पन्न कर सकता है.

3. धन हानि

जो व्यक्ति अपने घर में बोनसाई ट्री लगाता है, वास्तु शास्त्र के अनुसार उसे धन हानि होने लगती है और आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है. उसके आय के अन्य स्त्रोत धीरे-धीरे करके कम होने लगते हैं.

4. न लगाएं दूध वाले पौधे

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में ऐसे पौधे या बोनसाई ट्री ना लगाएं, जिनसे दूध निकलता है. ऐसे पौधे आपकी किस्मत को बिगाड़ सकते हैं और आपकी सफलता में बाधाएं उत्पन्न कर सकते हैं.

5. सुखे और मुरझाए पौधे हटाएं

वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर में ऐसे पौधे ना रखें जो सूख चुके हैं, मुरझा चुके हैं या फिर किन्हीं कारणों से सड़ चुके हैं. इन्हें तुरंत घर से हटाएं. ऐसे पौधे आपकी किस्मत को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं.

 

Previous articleजानिए, कैसा रहेगा आपका आज का दिन (15 मार्च 2024) Public Live
Next articleपूजा-पाठ में क्यों जलाते हैं कपूर? 4 हैं इसके गजब के फायदे, रिश्ते होंगे मधुर Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।