छात्रा ने खुद रची अपनी किडनैपिंग की साजिश, पुलिस ने बताई ये वजह Public Live

0
21

छात्रा ने खुद रची अपनी किडनैपिंग की साजिश, पुलिस ने बताई ये वजह

PublicLive.co.in

कोटा / शिवपुरी ।   कोटा में NEET की तैयारी कर रही एमपी के शिवपुरी की छात्रा के अपहरण मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस ने सभी पहलुओं की जांच करने के बाद बुधवार को खुलासा किया है। पुलिस ने बताया कि छात्रा के साथ किसी तरह की कोई वारदात नहीं हुई है। छात्रा विदेश जाना चाहती है। इसलिए उसने दोस्तों के साथ मिलकर खुद के अपहरण की साजिश रची थी। छात्रा और उसका एक दोस्त पुलिस को नहीं मिला है। पुलिस ने उनसे अपील की है कि वह जहां भी हो नजदीकी पुलिस से संपर्क करे। बता दें कि इससे पहले छात्रा को जयपुर के दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन पर देखा गया था। पुलिस के हाथ लगे सीसीटीवी फुटेज में छात्रा दो लड़कों के साथ जाते हुए दिख रही थी। सीसीटीवी के आधार पर युवती की तलाश की जा रही है। बता दें कि छात्रा के अपहरण को लेकर राजस्थान सरकार ने घोषणा की थी कि युवती की सूचना देने वाले को 20 हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा। लेकिन अब इस मामले में खुलासा हो गया है।

तस्वीर भेजकर मांगी 30 लाख फिरौती

शिवपुरी के बैराड़ निवासी रघुवीर धाकड़ ने 18 मार्च की रात को कोटा के विज्ञान नगर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में रघुवीर ने पुलिस को बताया था कि उसकी बेटी काव्या धाकड़ (20) का अपहरण कर लिया था। उनके मोबाइल पर बेटी की किडनैपिंग का मैसेज आया था। बेटी के हाथ-पैर और मुंह बंधी फोटो भी भेजी थी। तस्वीर भेजकर 30 लाख रुपये फिरौती मांगी। मैसेज में बैंक खाते की डिटेल भी भेजी गई। पैसे नहीं देने पर लड़की को जान से मारने की धमकी भी दी थी।

केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने लिया था संज्ञान

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मामले में संज्ञान लिया था। सिंधिया ने कहा था कि राजस्थान के मुख्यमंत्री से बात कर पुलिस को एक्टिव करने और बेटी को जल्द से जल्द तलाशकर लाने का आग्रह किया है। साथ ही बच्ची के पिता को फोन कर आश्वस्त किया है कि बेटी को वापस लाने की जिम्मेदारी उनकी है। आप परिवार का ख्याल रखो, वह सिर्फ आपकी नहीं, बल्कि मेरी भी बेटी है।

इंदौर में मिल रही थी धमकी, इसलिए कोटा भेजा

कोटा में शिवपुरी की जिस बेटी का किडनैप हुआ, वह पहले इंदौर में NEET की तैयारी कर रही थी।लेकिन असामाजिक प्रवृत्ति के लड़कों से परेशान होकर उसे इंदौर शहर छोड़ना पड़ा। लड़की के पिता ने पुलिस को बताया है कि जरियाखेड़ा (MP) गांव के रहने वाला रिंकू धाकड़ ने बेटी को परेशान किया था। इसकी शिकायत इंदौर पुलिस में दर्ज कराई थी। इसके बाद बेटी के नंबर पर अनुराग सोनी और हर्षित नाम के लड़कों ने धमकी दी थी। इसके बाद बेटी को इंदौर से वापस शिवपुरी बुला लिया था। सितंबर 2023 में नीट की तैयारी के लिए कोटा भेज दिया था। लेकिन बदमाशों ने कोटा में भी उसका पीछा नहीं छोड़ा। 

 

Previous articleनिजी कंपनी का इजिंनियर चुराता था ट्रेनों से कंबल, चादर, तौलिया Public Live
Next articleहोली की छुट्टी लेकर घर आये होटल के कुक ने फांसी लगाकर दी जान Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।