छेड़खानी के आरोपी की पुलिस हिरासत में मौत, तनाव Public Live

0
15

छेड़खानी के आरोपी की पुलिस हिरासत में मौत, तनाव

PublicLive.co.in

गोरखपुर । गोला थाना क्षेत्र के एक गांव में बालिका से छेड़खानी करने के आरोपित की पुलिस हिरासत में तबीयत खराब होने से मौत हो जाने के बाद स्थिति गंभीर हो गई। जानकारी होने पर पहुंचे स्वजन ने लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। आरोप है कि हिरासत में लेने के बाद ही तबीयत बिगड़ी थी, लेकिन थानेदार ने ध्यान नहीं दिया। एसपी सिटी और एसपी साउथ मामले की जांच कर रहे हैं। पीएचसी सहित आरोपित के गांव में आसपास के थानों की फोर्स तैनात कर दी गई है।

प्राप्त विवरण के मुताबिक मामला गोला थाना क्षेत्र के बड़ा बुजुर्ग गांव का है, जहां 42 वर्षीय विनय कुमार पांडेय पर बुधवार की शाम गांव की पड़ोसी बालिका ने छेड़खानी का आरोप था। परिजनों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पीआरवी वैन ने बयान लेने के बाद थानेदार को बताया। कुछ देर में ही थानेदार भी गांव में पहुंच गए और आरोपी विनय को पुलिस अपने साथ थाने ले आई । परिजनों का आरोप है कि विनय की तबीयत पहले से ही खराब थी, इसके विषय में थानेदार को बताया गया था लेकिन वह नहीं माने और उसे थाने लेकर चले गए। विनय के बड़े भाई का आरोप है कि थाने ले जाते समय ही विनय की तबीयत बिगड़ गई थी। इसकी जानकारी उन्होंने पुलिसकर्मियों को दी और अस्पताल ले जाने के लिए कहा लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया और रात में उनकी मौत हो गई। इसके बाद आनन फानन में उन्हें सरकारी जीप से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मौत के बाद पुलिस जबरन दाह संस्कार कराना चाहती थी।

मौत के बाद परिजन और ग्रामीण शव को स्ट्रैचर पर रखकर कस्बा के चंद चौराहे पहुंच गए जहां उन्होंने मार्ग अवरुद्ध कर हंगामा शुरू कर दिया। पुलिस ने जाम खुलवाने का अथक प्रयास किया लेकिन ग्रामीण नहीं माने। अंत में सुबह जाकर पुलिस अधिकारियों के समझाने और जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन देने के बाद जाम खुलवाया जा सका। एसपी सिटी कृष्ण कुमार बिश्नोई का कहना है कि बालिका से छेड़खानी करने का आरोप लगने पर गोला थाना पुलिस ने विनय पांडेय को हिरासत में लिया था। तबीयत बिगड़ने के बाद पुलिसकर्मी उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाए थे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मृत्यु की असली वजह स्पष्ट हो सकेगी। लापरवाही के आरोप की जांच कराई जा रही है।

Previous articleरेलवे स्टेशन से 4 दिन पहले लापता बालक का कुछ पता नहीं चला, परेशान होकर परिवार गुरुवार को एसपी कार्यालय पहुंचा Public Live
Next article16 साल के आईपीएल इतिहास में पहली बार होगा ऐसा Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।