जापान में बर्फजाल में फंसी 13 किलर व्हेल्स  Public Live

0
16

जापान में बर्फजाल में फंसी 13 किलर व्हेल्स 

PublicLive.co.in

टोक्यो । उत्तरी जापान के होकाइदो के पास 13 किलर व्हेल्स बर्फ के बीच में फंस गई हैं। क्योंकि नीचे भी बर्फ काफी ज्यादा है। इसकारण उन्हें रेस्क्यू करना मुश्किल है, क्योंकि बर्फ को तोड़कर वहां तक जाना पड़ेगा। 6 फरवरी 2024 की सुबह करीब 13 किलर व्हेल्स यानी ओर्का होकाइदो परफेक्टर के राउसू कस्बे में जमी बर्फ में फंस गईं।  ये तैरती हुई बर्फ कहीं ऊंची कहीं नीची है। ये स्थिति समंदर के ऊपर भी है और नीचे भी। इसकारण ये मछलियां इस बर्फजाल से बाहर निकल नहीं पा रही हैं। रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना 6 फरवरी की सुबह साढ़े आठ बजे के आसपास की है। पहले 10 व्हेल्स फंसी थीं। बाद में उसमें तीन और आकर फंस गईं। इनका वीडियो स्थानीय मछुआरों ने बनाया जो किसी तरह से उस इलाके में मछलियां पकड़ने गए थे। जिस बर्फजाल में ये मछलियां फंसी हैं, उसकी लंबाई-चौड़ाई एक किलोमीटर से ज्यादा है। ये मछलिया समंदर में तट से एक किलोमीटर दूर हैं। परेशानी ये है कि इस समय यहां का समंदर तैरते हुए मल्टी-लेवल बर्फ की परत से ढंका हुआ है। व्हेल्स तक जाकर उन्हें निकालना आसान रेस्क्यू नहीं होगा। वहीं मौसम विभाग ने सलाह दी है कि अगले 24 घंटों में समंदर की गर्मी की वजह से ये बर्फ थोड़ी और फैलेगी। तब ये मछलियां खुद से बाहर निकल आएगी। प्रो. मारी ने कहा कि तैरती हुई बर्फ का जाल इतनी आसानी से नहीं टूटता। न ही पिघलता है। क्योंकि उस बाहर की ठंडी हवा मजबूत करती है। ये बेहद सामाजिक प्राणी होते हैं। समूह में रहते हैं। परिवार का ख्याल रखते हैं। बड़ी किलर व्हेल्स अपने बच्चों को छोड़कर कहीं नहीं जाएगी। 

Previous articleमोदी इस बात को लेकर डरे हुए हैं कि आगामी लोकसभा चुनाव में जनता उन्हें सबक सिखाने जा रही है Public Live
Next articleहज यात्रा के नाम पर ठगी करने वाले को तीन साल की जेल Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।