जेडीयू की बैठक में 15 मिनट मौजूद रहे नीतीश, कई विधायक नहीं पहुंचे Public Live

0
11

जेडीयू की बैठक में 15 मिनट मौजूद रहे नीतीश, कई विधायक नहीं पहुंचे

PublicLive.co.in

पटना ।  बिहार में फ्लोर टेस्ट से पहले पटना में जेडीयू की बैठक हुई। इस अनौपचारिक बैठक में जहां सीएम नीतीश कुमार 15 ‎मिनट मौजूद रहे, वहीं कई विधायक पहुंचे ही नहीं थे। जैसे ही सीएम बैठक से बाहर ‎निकले तो इसके बाद सियासी गलियारे में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। जानकारी के अनुसार मंत्री श्रवण कुमार के आवास पर शनिवार दोपहर में भोज का आयोजन किया गया था, उसमें 40 से कम विधायक ही पहुंचे। बिहार विधानसभा में जेडीयू विधायकों की संख्या 45 है। जेडीयू नेताओं का कहना है कि अधिकतर विधायक पहुंच गए हैं, जो नहीं आए वे भी पटना पहुंच रहे हैं। दूसरी ओर, आरजेडी के नेता लगातार सियासी खेला होने का दावा कर रहे हैं। बताया जा रहा है ‎कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी गांधी मैदान में कृषि मेले का निरीक्षण करने के बाद मंत्री के आवास पर पहुंच गए। मगर उस समय तक पार्टी के सभी विधायक नहीं आए थे। सीएम नीतीश करीब 15 मिनट ही श्रवण कुमार के आवास पर रुके और फिर वहां से निकल गए। 

हालां‎कि इसके बाद चर्चाएं उठने लगी हैं कि विधायकों की कम संख्या देखकर नीतीश नाराज हो गए और आवास से चले गए। बिहार विधानसभा में जेडीयू विधायकों की संख्या 45 है। अब तक मंत्री श्रवण कुमार के आवास पर पहुंचने वाले विधायकों की संख्या 37 रही है। जेडीयू के जो विधायक इस बैठक में नहीं आए उनमें डॉ, संजीव, बीमा भारती, अमन कुमार, गोपाल मंडल, शालिनी मिश्रा, गुंजेश साह, सुदर्शन और दिलीप राय शामिल हैं। बताया जा रहा है कि इनमें से कुछ विधायक रास्ते में हैं, वे शाम तक पटना पहुंच जाएंगे। हालांकि, जेडीयू के नेता अपने किसी भी विधायक के गायब या संपर्क से बाहर होने की बात से इनकार कर रहे हैं। 

Previous articleपीएम मोदी के हाथों हो सकता है दरभंगा एम्स का शिलान्यास Public Live
Next articleलिवइन पार्टनर के साथ रह रहे भाजपा नेता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।