टेक्समैको रेल को रेलवे मंत्रालय से मिला 1,374 करोड़ रुपये का ऑर्डर, कंपनी के शेयर ने पकड़ी रफ्तार Public Live

0
55

टेक्समैको रेल को रेलवे मंत्रालय से मिला 1,374 करोड़ रुपये का ऑर्डर, कंपनी के शेयर ने पकड़ी रफ्तार

PublicLive.co.in

टेक्समैको रेल एंड इंजीनियरिंग के शेयरों में गजब का उछाल आया है. टेक्समैको रेल एंड इंजीनियरिंग के शेयर 10 परसेंट बढ़कर 52-सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गए, और अकेले इस साल, कंपनी का स्टॉक अन्य सभी रेलवे कंपनियों के बराबर है. कंपनी का शेयर इसलिए इतना बढ़ा क्योंकि उसको रेलवे मंत्रालय से बड़ा ऑर्डर मिला है. टेक्समैको रेल को रेलवे मंत्रालय से 1,374.41 करोड़ का ऑर्डर मिला है. बता दें, कंपनी का 52 हफ्ते का लो लेवल 40.49 रुपये है.

बनाएगा वैगन्स

टेक्समैको रेल के कार्यकारी निदेशक और उपाध्यक्ष इंद्रजीत मुखर्जी ने कहा है कि कंपनी को भविष्य में निजी और सरकारी दोनों क्षेत्रों से अधिक ऑर्डरों की उम्मीद है. मुखर्जी ने कहा कि कंपनी के पास वर्तमान में भारतीय रेलवे से 50,000 वैगनों और निजी संस्थानों से 2,000 वैगनों का ऑर्डर बुक है.

2025 के अंत तक पूरा हो जाएगा ऑर्डर

उन्होंने कहा कि सामान्य पर्पस प्लान को फिलहाल रोक दिया गया है, लेकिन 4,000 वैगनों का ऑर्डर पहले से ही पाइपलाइन में है. मुखर्जी ने कहा कि यदि कंपनी 70 से 80 प्रतिशत की सफलता दर हासिल कर पाती है, तो उसके पास अभी भी भारी मांग है. एक इंटरव्यू में मुखर्जी ने बताया कि उन्हें जो लेटेस्ट ऑर्डर मिला है, वो मिड 2024 तक डिलीवर होंगे और 2025 तक पूरा होने की उम्मीद है.

अक्टूबर में, टेक्समैको रेल के एक संयुक्त उद्यम को नेपाल में 900MW रन-ऑफ-द-रिवर हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट के लिए 179.89 करोड़ रुपये का ऑर्डर मिला है. ऑर्डर एसजेवीएन अरुण-3 पावर डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड से आया है, जो प्रोजेक्ट का निर्माण कर रही है. परियोजना नेपाल के अरुण नदी पर स्थित है.

Previous articleनाबालिग से रेप का आरोपी गिरफ्तार, पॉक्सो में केस दर्ज Public Live
Next articleगुजरात की सेमीकंडक्टर नीति ‎विदेशी कंपनियों को कर रही आकर्षित: राज्य सरकार Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।