तमिलनाडु विधानसभा में कृषि बजट पेश Public Live

0
44

तमिलनाडु विधानसभा में कृषि बजट पेश

PublicLive.co.in

तमिलनाडु के कृषि मंत्री एमआरके पन्नीरसेल्वम ने विधानसभा में 2024-25 के लिए अलग से कृषि बजट पेश किया। इस कृषि बजट में जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए गांवों के पोषण के उपायों की घोषणा की गई।इसके अलावा तमिलनाडु के कृषि बजट में धान की फसल में रासायनिक उर्वरकों को कम करने के कदमों की घोषणा की गई। साथ ही कृषि बजट में ‘एक गांव, एक फसल’ योजना का भी एलान किया गया।कृषि मंत्री ने बताया कि वर्ष 2024-2025 के दौरान ‘मुख्यमंत्री मन्नुयिर काथु मन्नुयिर कप्पोम’ एक नई योजना लागू की जाएगी। इस योजना के लिए 206 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

तमिलनाडु सरकार ने कृषि बजट में बाजरा के लिए 65.30 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। इसके साथ ही बजट में पारंपरिक धान की किस्मों को प्रोत्साहित करने के लिए बीज वितरण की घोषणा की गई है, इससे डायबिटीज से लड़ने में मदद मिलेगी।तमिलनाडु के कृषि मंत्री ने बताया कि कलैगनारिन ऑल विलेज इंटीग्रेटेड एग्रीकल्चरल डेवलपमेंट प्रोग्राम का मकसद कृषि के प्राथमिक व्यवसाय के रूप में विकास पर ध्यान केंद्रित करते हुए प्रत्येक गांव को आत्मनिर्भरता के मॉडल में बदलना है। 2024-2025 के दौरान इस योजना को 200 करोड़ रुपये के खर्च के साथ 2,482 चयनित ग्राम पंचायतों में लागू किया जाएगा। इसके अलावा इस कृषि बजट में कृषि मंत्री एमआरके पन्नीरसेल्वम ने मिट्टी की उर्वरता सुनिश्चित करने के लिए नई योजना का भी एलान किया है।

Previous articleचर्चित कथावाचक प्रदीप मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी Public Live
Next articleगरीब परिवारों के लिये वरदान साबित हो रही है प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।