तीसरे टेस्ट में इस खिलाड़ी को मिलेगा डेब्यू का मौका? Public Live

0
40

तीसरे टेस्ट में इस खिलाड़ी को मिलेगा डेब्यू का मौका?

PublicLive.co.in

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा मुकाबला 15 फरवरी से राजकोट में खेला जाएगा. भारतीय टीम इस मैच में कई बदलाव के साथ उतर सकती है. रिपोर्ट्स की मानें तो तीसरे टेस्ट में युवा विकेटकीपर ध्रुव जुरैल को डेब्यू का मौका मिल सकता है. दरअसल, केएस भरत के लगातार फ्लॉप होने से जुरैल के लिए भारतीय टीम का रास्ता साफ हो गया है. 

पांच मैचों की टेस्ट सीरीज फिलहाल 1-1 की बराबरी पर है. अब तीसरा टेस्ट मैच 15 से 19 फरवरी के बीच राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाएगा. रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजकोट में स्पिन ट्रैक देखने को मिल सकता है. 

ध्रुव जुरैल को मिल सकता है डेब्यू का मौका 

इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट में केएस भरत की जगह ध्रुव जुरैल को मौका दिया जा सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक, ध्रुव जुरैल को तीसरे टेस्ट में डेब्यू का मौका मिलेगा. दरअसल, केएस भरत के लगातार फ्लॉप होने की वजह से जुरैल के लिए रास्ता आसान हो गया है. ध्रुव जुरैल ने अब तक 15 फर्स्ट क्लास मैचों में करीब 47 की औसत से 790 रन बनाए हैं. इस दौरान उनके बल्ले से एक शतक और पांच अर्धशतक निकले हैं. 

केएस भरत के आंकड़े 

इस सीरीज के दो टेस्ट मैचों की चार पारियों में भरत के बल्ले से सिर्फ 92 रन निकले हैं. वहीं अगर भरत के टेस्ट करियर की बात करें तो वह अब तक सात टेस्ट मैच खेल चुके हैं. इस दौरान उन्होंने सिर्फ 221 रन बनाए हैं. सात टेस्ट मैचों में भरत अब तक एक अर्धशतक भी नहीं लगा सके हैं. टेस्ट क्रिकेट में उनका सर्वाधिक स्कोर 44 रन है. 

सरफराज को मौका मिलना मुश्किल

तीसरे टेस्ट में भी सरफराज खान को मौका मिलना मुश्किल है. माना जा रहा है कि अभी सरफराज को डेब्यू के लिए और इंतजार करना पड़ सकता है. दरअसल, कप्तान रोहित शर्मा चार नंबर पर एक बार फिर रजत पाटीदार को मौका दे सकते हैं. वहीं पांच नंबर पर केएल राहुल खेलते दिखेंगे. हालांकि, अगर राहुल मैच फिट नहीं होते हैं तो फिर सरफराज को डेब्यू का मौका मिलना तय है. 

Previous articleयूपी के 10 जिलों के किसानों 6 हजार करोड़ की सौगात देंगे पीएम मोदी   Public Live
Next articleफिल्म ‘फाइटर’ने तीसरे संडे फिर पकड़ी रफ्तार, 200 करोड़ से है बस इतनी दूर  Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।