दिल्ली में पकड़ाई  100 करोड़ से ज्यादा की हेरोइन, 3 आरोपी गिरफ्तार Public Live

0
16

दिल्ली में पकड़ाई  100 करोड़ से ज्यादा की हेरोइन, 3 आरोपी गिरफ्तार

PublicLive.co.in

नई दिल्‍ली ।  दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 15 किलो हेरोइन जब्त की है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत करीब 105 करोड़  है। जानकारी के मुताबिक, हेरोइन मणिपुर से लाई गई थी। स्पेशल सेल के अधिकारी ने बताया कि एक अंतरराज्यीय नारकोटिक ड्रग कार्टेल का भंडाफोड़ करते हुए इस मामले में 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों से पूछताछ के बाद इस मामले में दिल्ली पुलिस ने एक और आरोपी संजय साहा को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया है।

 ये आरोपी बिहार, पश्चिम बंगाल और दिल्ली की कई वीआईपी पार्टियों में ड्रग्स की सप्लाई कर चुके हैं।

स्पेशल सेल के मुताबिक,  स्पेशल सेल की एक टीम इस सूचना पर काम कर रही थी कि मणिपुर, असम, पश्चिम बंगाल और दिल्ली  में एक अंतरराज्यीय मादक पदार्थ गिरोह सक्रिय है। इस कार्टेल के सदस्य म्यांमार से दिल्ली एनसीआर सहित देश के कई हिस्सों में हेरोइन की सप्लाई करने में शामिल थे।

सेल ने बताया कि 21 मार्च 2024 को एक विशेष सूचना मिली कि इस कार्टेल के सदस्यों दिलीराम, प्रकाश पौडयेल और अर्जुन ने मणिपुर से दाजू कुकी उर्फ ​​राजू से हेरोइन की एक बड़ी खेप ली है। वे हेरोइन की इस खेप को  दिल्ली में राजघाट बस डिपो के पास दाजू कुकी के जानने वाले तक पहुंचाएंगे। पुलिस ने जाल बिछाया, इसी बीच एक ऑटो में आईटीओ की तरफ से 3 लोग आए। उनकी पहचान दिलीराम, प्रकाश और अर्जुन के रूप में हुई। उन्हें पकड़ने के बाद उनके पास कुल 15 किलो हेरोइन बरामद हुई।

पूछताछ के दौरान सभी आरोपियों ने खुलासा किया कि वे एक ड्रग सिंडिकेट के सदस्य हैं, जो म्यांमार से भारत के कई हिस्सों में ड्रग्स की तस्करी में शामिल है। उन्होंने बताया कि वे पिछले तीन सालों से हेरोइन की सप्लाई कर रहे हैं और पहले पश्चिम बंगाल, बिहार और दिल्ली एनसीआर में कई पार्टियों में ड्रग्स की सप्लाई कर चुके हैं। 

Previous articleजीआरपी ने हीरा, पन्ना, नीलम, पुखराज, गोमेद, लहसुनिया, माणिक, मूंगा सहित लाखो के नग पकड़े Public Live
Next articleबीजेपी से टिकट कटने के बाद वरुण गांधी को आया कांग्रेस से खुला ऑफर ! Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।