दिल्ली से आयी माला पहनते हैं अयोध्या के राम, सरयू के जल से होता है अभिषेक Public Live

0
15

दिल्ली से आयी माला पहनते हैं अयोध्या के राम, सरयू के जल से होता है अभिषेक

PublicLive.co.in

राम लला के विग्रह रूप की प्राण प्रतिष्ठा के बाद से अयोध्या लगातार चर्चा में है. प्रभु श्रीराम के श्रृंगार से लेकर मंदिर तक पर सबकी नजर है. भव्य मंदिर में विराजमान होने के बाद अयोध्या के प्रभु राम का ठाठ भी निराला हो गया है. रोज प्रभु की दिनचर्या क्या रहती है. कैसे होता है उनका श्रृंगार पढ़िए इस खबर में.दिल्ली के पुष्पों का हार धारण करते हैं अयोध्या के प्रभु राम, सरयू जल से अभिषेक के बाद होता है श्रृंगार

भगवान राम का हर रूप निराला है. अयोध्या में विराजे भगवान राम का आलौकिक श्रृंगार किया जाता है. पुजारी सुबह लगभग 4:30 बजे जागरण कराते हैं. उसके बाद उनका सरयू जल से अभिषेक किया जाता है. विशेष पूजन के बाद संपूर्ण श्रृंगार होता है. वस्त्र धारण करने के बाद रामलला को आभूषण पहनाए जाते हैं.

रामलला के निराले ठाठ

राम मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र बताते हैं कि प्रभु राम बालक स्वरूप में विराजमान हैं. उनकी सेवा एक बालक के रूप में की जाती है. प्रतिदिन उनको नए वस्त्र धारण कराए जाते हैं. बाल भोग लगाया जाता है. प्रभु राम की सेवा में कोई कमी ना हो इसका विशेष ध्यान रखा जाता है. प्रतिदिन रामलाल को पुष्पों की माला अर्पित की जाती है. ये माला दिल्ली से बुलायी जाती है जो विशेष प्रकार की पैकिंग में आती है. जब प्रभु राम का श्रृंगार होता है उसके बाद इस माला को धारण कराया जाता है. अलग-अलग पुष्पों की माला बालक राम समेत चारों भाइयों को धारण कराई जाती है.

कड़े पहरे में भगवान

भगवान के आभूषण वस्त्र रखने के लिए गर्भ ग्रह के पास दो छोटे-छोटे कक्ष बनाए गए हैं. इसके अलावा अलमारी भी रखी गई है, जिसमें प्रभु राम के वस्त्र श्रृंगार रखे जाते हैं. भव्य मंदिर में विराजमान होने के बाद प्रभु राम की सुरक्षा भी बढ़ गई है. उनके 6 अंगरक्षक भी हैं हालांकि पहले यह संख्या तीन थी. अब 8-8 घंटे के लिए दो-दो सुरक्षा कर्मियों की ड्यूटी लगाई गयी है.

राम भक्तों का रैला

जब से प्रभु राम अपने भव्य महल में विराजमान हुए हैं तब से लाखों राम भक्त दर्शन पूजन करने आ रहे हैं और अपने आराध्याय का दर्शन कर रहे हैं. राम लला को रोज उस दिन के हिसाब से हर रंग के वस्त्र धारण कराए जाते हैं. दर्शन का सिलसिला सुबह 6:00 बजे शुरू हो जाता है जो रात दस बजे तक चलता है.

.

 

Previous articleजानिए, कैसा रहेगा आपका आज का दिन (07 फ़रवरी 2024) Public Live
Next articleमहेश्वर में 300 साल पुराना मंदिर, पंढरपुर से भगवान का विग्रह आने में लगे ढाई साल Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।