नक्सलियों और जवानों के बीच मुठभेड़ में चंबल का लाड़ला शहीद, एक दिन पहले ही घर वालों से की थी बात Public Live

0
15

नक्सलियों और जवानों के बीच मुठभेड़ में चंबल का लाड़ला शहीद, एक दिन पहले ही घर वालों से की थी बात

PublicLive.co.in

ग्वालियर ।   छत्तीसगढ़ के सुकमा और बीजापुर के सीमावर्ती क्षेत्र टेकलगुडेम में नक्सलियों और जवानों के बीच हुई मुठभेड़ में तीन जवान शहीद हो गए। इसमें शहीद हुए एक जवान पवन भदौरिया भिंड जिले के रहने वाले हैं जिनका परिवार ग्वालियर में रहता है। बताया जा रहा है कि बुधवार को शहीद का पार्थिव शरीर ग्वालियर पहुंचने वाला है। भिंड जिले के मेहगांव विधानसभा के अमायन थाना क्षेत्र के कुपावली गांव के रहने वाले रामकुमार सिंह भदोरिया के बेटे पवन कुमार भदौरिया मुठभेड़ में शहीद हो गए हैं। परिवार को जब इसकी सूचना मिली तो घर में मातम पसर गया, वहीं शहीद की पत्नी और माता पिता का रो-रो कर बुरा हाल है। इसके साथ ही राजनेता और प्रशासन के अधिकारियों को सूचना मिलती ही वह भी शहीद के घर पहुंच गए हैं।

शहीद पवन भदौरिया अपने माता-पिता के इकलौते बेटे थे और इनकी शादी साल 2018 में हुई थी। शहीद पवन कुमार की दो साल की एक बेटी भी है। जब इसकी सूचना पत्नी को मिली तो वह बेसुध हो गई। साथ ही माता-पिता का भी रो-रो कर बुरा हाल है। पिता का कहना है कि रोज शाम को बेटे का फोन आता था और हाल-चाल पूछता था और कल सुबह भी बेटे से बात हुई, लेकिन अचानक इस खबर को सुनकर परिवार पूरी तरह बेसुध हो गया है। बताया जा रहा है कि शहीद जवान पवन भदोरिया का परिवार मोती झील पर रहता है। गृह क्षेत्र में ही राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। जब इसकी सूचना ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर को मिली तो वे शहीद के परिवार से मिलने पहुंचे और उन्होंने शोक व्यक्त किया। 

Previous article80 किलोमीटर की परिधि में रहे या नौकरी छोड़ दें Public Live
Next articleआनलाइन गेमिंग पर होगी जीएसटी की वसूली Public Live
समाचार सेवाएं समाज की अहम भूमिका निभाती हैं, जानकारी का प्रसार करने में समर्थन करती हैं और समाज की आंखों और कानों का कार्य करती हैं। आज की तेज गति वाली दुनिया में ये समय पर, स्थानीय और वैश्विक घटनाओं के बारे में समय पर सटीक अपडेट्स के रूप में कार्य करती हैं। ये सेवाएं, चाहे वे पारंपरिक हों या डिजिटल, घटनाओं और जनजागरूकता के बीच का सेतु बनाती हैं। ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म्स के आगमन के साथ, समाचार वितरण को तत्काल बनाए रखने का सुनहरा अवसर है, जिससे वास्तविक समय में बदला जा सकता है। हालांकि, गलत सूचना और पक्षपात जैसी चुनौतियां बनी हुई हैं, जो सत्यापनीय पत्रकारिता की महत्वपूर्णता को अधीन रखती हैं। सत्य के परकी रखने वाले रूप में, समाचार सेवाएं केवल घटनाओं की सूचना नहीं देतीं, बल्कि जानकारी की अखंडता को भी बनाए रखती हैं, एक जागरूक और लोकतांत्रिक समाज के लाभ में योगदान करती हैं।